-शुभ मुहूर्त के कारण बहुत बड़ी संख्या में हैं शादियां

-बिना अनुमति रोकी जा सकती हैं गाड़ी

lucknow@Inext.co.in

LUCKNOW: लखनऊ की दो लोकसभा सीटों के लिए छह मई को मतदान होना है। वहीं शुभ मुहूर्त के कारण इसी दिन लगन बहुत तेज है। राजधानी में भी बड़ी संख्या में शादियां हैं। चुनावों के मद्देनजर सुरक्षा कारणों से जगह-जगह पुलिस का पहरा होगा। ऐसे में गाडि़यों के काफिले को रोका जा सकता है। इससे बचने के लिए जिला प्रशासन से इसके लिए परमीशन लेनी होगी।

बारात की प्रशासन से लें अनुमति

जिला प्रशासन के अधिकारियों के अनुसार शादी के लिए पहले से अनुमति ले लें। इसमें आयोजन का विवरण, वाहनों, बारातियों की संख्या की जानकारी जरूर दें। रास्ते में परमीशन मांगी जाए तो दिखा दें। इससे सहूलियत होगी। संबंधित थाने को भी पहले से पता रहेगा तो रोकटोक नहीं होगी। ऐसा न होने पर प्रशासन इस आशंका में वाहन रोककर चेक करेगा कि कहीं बारात के नाम पर वोटर तो नहीं ढोए जा रहे हैं।

नहीं पहुंच पाएंगे रिश्तेदार

चार से छह मई के बीच जिन लोगों के घरों में शादियां हैं, उनके रिश्तेदार भी परेशान हैं। मतदान का दिन होने के कारण वह भी शामिल नहीं हो पाएंगे। इससे वर और कन्या दोनों पक्षों के लोगों की मुसीबत बढ़ गई है।

आतिशबाजी भी नहीं हो सकेगी

मतदान के एक दिन पहले और एक दिन बाद जिनके घरों में शादियां हैं वह बारात में आतिशबाजी भी नहीं कर सकेंगे। आतिशबाजों को एडवांस बुकिंग के लिए दी गई उनकी रकम भी डूब जाएगी। प्रशासनिक अधिकारियों की मानी जाए तो चार से छह मई तक रोड पर दिखने वाले सभी वाहनों की चेकिंग की जाएगी। संदिग्धों की तलाश की जाएगी। वाहनों में प्रतिबंधित सामान मिलने पर तत्काल कार्रवाई की जाएगी। रात में पटाखा फोड़ने पर भी मनाही होगी। सिटी मजिस्ट्रेट गिरिजेश चौधरी ने बताया कि लोकसभा चुनाव में प्रचार से लेकर पूरी चुनाव प्रक्रिया के दौरान बिना अनुमति के आतिशबाजी नहीं कर सकेंगे। आदेश की अवहेलना पर जेल भी हो सकती है और संभव है कि चुनाव तक बेल भी न हो।

बॉक्स

बदलवा रहे तारीख

मतदान की तारीख के कारण बहुत से लोग अब शादी की तारीख बदलवाने के प्रयास में हैं, लेकिन वाहन, हलवाई, माली, बैंड, मैरेज हाल, कैमरामैन, आर्केस्ट्रा की बु¨कग वह महीनों पहले कर चुके हैं। ऐसे में लोगों का बहुत बड़ा नुकसान होना तय है।