GORAKHPUR: प्रदेश के आईजी जेल/ एडीजी पुलिस चंद्रप्रकाश शनिवार शाम गोरखपुर पहुंचे और शाम चार बजे जेल पहुंच कर बारीकी से करीब 2.5 घंटे तक निरीक्षण किया. सबसे पहले जेल पहुंचने के बाद उन्होंने सलामी ली. इसके बाद बिस्मिल पार्क का निरीक्षण किया. इसके बाद वह जेल के अंदर दाखिल हुए. जेल में उन्होंने महिला बैरक, शहीद स्थल, कीचन, अस्पताल, हाई सेक्योरिटी बैरक सहित सभी बैरकों का निरीक्षण किया.

आईजी जेल ने बताया कि मुख्य रुप से वह शहीद बिस्मिल के फांसी स्थल का निरीक्षण करने आए हैं. बताया कि कई लोगों ने पिछले दिनों मांग उठाई थी की शहीद स्थल का गेट जो बंद कर दिया गया है उसे फिर से खोला जाए. कहा कि इसके लिए आज बैठक की गई है. जिम्मेदारों को प्रस्ताव बनाकर भेजने को कहा गया है. कहा कि जेल में वर्तमान में 24 कैमरे लगे हैं, छह और नए कैमरे लगने थे, जो अभी तक लग नहीं पाया है. साथ ही इन चौबीस कैमरों में से आठ कैमरे खराब हैं. कहा कि किचन में लगी रोटी मशीन भी खराब मिली है. जेल में कई नए बैरकों का निर्माण चल रहा है, जिसकी गति धीमी है और कार्य की गुणवत्ता भी ठीक नहीं मिली है. इसके लिए सभी जिम्मेदारों को मंगलवार को तलब किया गया है. जेल की ओवरलोडिंग पर उन्होंने बोला कि स्थानीय जेल प्रशासन को निर्देश दिया गया है कि इसके लिए प्रयास करें और ज्यादा से ज्यादा बंदियों व कैंदियों को सेंट्रल जेल या अन्य जेलों में ट्रांसफर कराने का प्रयास करें. साथ ही बंदियों की जल्द से जल्द बेल कराने का भी प्रयास करें. जिससे ओवरलोडिंग कम हो सके. कहा कि महिला बैरक में महिलाओं के साथ रहने वाले बच्चों के लिए कुछ नई सुविधाओं के लिए प्रयास किया जाएगा. उनके खेलने और पढ़ने के लिए व्यवस्था की जाएगी. ताकि बच्चों को जेल का माहौल न महसूस हो. इसके लिए निर्देश दिए गए हैं. इस दौरान डीआईजी जेल अरविंद कुमार सिंह, वरिष्ठ जेल अधीक्षक डॉ रामधनी, जेलर प्रेमसागर शुक्ला सहित कई जिम्मेदार मौजूद रहे.