क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ : सिटी में एक बार फिर अवैध शराब का कारोबार धड़ल्ले से चल रहा है. एसडीओ अंजली यादव के तबादले के बाद शहर से कनेक्टेड ग्रामीण इलाकों में शराब माफियाओं ने अड्डा बना लिया है. यहां न सिर्फ नकली शराब बनाया जा रहा है, बल्कि होटलों और ढाबों में इसकी सप्लाई की जा रही है. लेकिन, प्रशासन की ओर से इस दिशा में कोई एक्शन नहीं लिया जा रहा है.

उत्पाद विभाग से इनपुट नहीं

इधर, जिला प्रशासन के अधिकारियों का कहना है कि उत्पाद विभाग से अब जिला प्रशासन को सूचना मिल ही नहीं रही जिसके कारण अवैध शराब के कारोबारियों के खिलाफ ऑपरेशन नहीं हो पा रहा है. पहले अंजली यादव के कार्यकाल में सीधे एसडीओ को सूचना मिलती थी जिसके बाद शराब की अवैध बिक्री पर कार्रवाई की जाती थी.

स्टॉक में हो रही गड़बड़ी

उत्पाद विभाग के एक अधिकारी ने नाम नहीं बताने की शर्त पर कहा कि दुकानों से भेजे जाने वाले शराब के स्टॉक की जानकारी में काफी गड़बड़ी की जा रही है लेकिन इसकी छानबीन की फाइल दबा दी जा रही है. अगर गंभीरता से जांच हो जाए तो कई लोग नप जाएंगे.

इन इलाकों में अवैध शराब का कारोबार

1-रातू इलाका

जामूनटोली

बिजुलिया

सिमलिया

अगड़ू

2-कांके इलाका

चूड़ीटोला

कदमा

महुआटोली

बुकरु

3-ओरमांझी थाना एरिया

कुच्चू

साड़म

बिंदे

4-तुपूदाना

5- नामकुम

फिर निजी हाथों में शराब का धंधा !

ऐसी संभावना जताई जा रही है किशराब का कारोबार एक बार फिर सरकार के द्वारा निजी हाथों में सौंप दिया जाएगा. जनवरी माह से इसको लेकर तैयारी शुरु कर दी जाएगी. इससे पहले शराब की लूट तेज हो गयी है. सरकारी दुकानों में अच्छे और मध्यम ब्रांड की शराब मिल ही नहीं रही बल्कि वह शराब सीधे होटलों, ठेले वालों, ढाबों आदि में सप्लाई कर दी जा रही है.