- बीआरडी मेडिकल कॉलेज का मामला, जूनियर डॉक्टर ने पकड़ पुलिस को सौंपा

GORAKHPUR: बीआरडी मेडिकल कॉलेज में अभी भी दलालों पर अंकुश नहीं लग पाया है. शनिवार रात एक दलाल इमरजेंसी के पास मरीज के साथ आए एक तीमारदार को अपने झांसे में लेकर निजी अस्पताल ले जा रहा था. इसी दौरान जूनियर डॉक्टर को इसकी सूचना मिली. उन्होंने दलाल को पकड़ लिया और सुरक्षा अधिकारी व पुलिस जानकारी दी. सूचना पर पहुंची पुलिस दलाल को पकड़ थाने लेती गई.

संतकबीर नगर निवासी एक व्यक्ति अपने मरीज के साथ बीआरडी मेडिकल कॉलेज के इमरजेंसी पहुंचा. मरीज की हालत काफी गंभीर थी. डॉक्टर ने उसे देखने के बाद सीटी स्कैन जांच की सलाह दी. तीमारदार मरीज को लेकर जांच सेंटर पर पहुंचा. इस बीच इमरजेंसी के बाहर एक दलाल उनसे मिला. उसने तीमारदार को बेहतर और सस्ता इलाज का भरोसा दिला अपने झांसे में ले लिया. निजी एंबुलेंस से उसे साथ ले जाने लगा. एक जूनियर डॉक्टर की उन पर नजर पड़ी. पूछने पर तीमारदार ने सारी बात बताई. डॉक्टर ने दलाल को पकड़ बीआरडी के सुरक्षा अधिकारी डॉ. अभिषेक जीना को जानकारी दी. सूचना मिलते ही तत्काल वह पुलिस के साथ मौके पर पहुंचे और दलाल को पुलिस के हवाले किया. इस मामले में पुलिस दलाल से पूछताछ कर रही है.

सुरक्षा अधिकारी ने की वार्डो की पड़ताल

इस घटना के बाद बीआरडी मेडिकल कॉलेज के सुरक्षा अधिकारी डॉ. अभिषेक जीना ने रात करीब 11 बजे नेहरू चिकित्सालय के परिसर व वार्डो का जायजा लिया. मगर इस बीच कोई भी संदिग्ध व्यक्ति नहीं मिला. उन्होंने ड्यूटी पर तैनात सुरक्षा गार्डो को दलालों पर नजर रखने की ताकिद की.

अब इमरजेंसी पर होंगे पांच गार्ड

दलालों को पकड़ने के लिए अब इमरजेंसी के सामने पहरा कड़ा कर दिया गया है. सुरक्षा अधिकारी ने बताया कि इमरजेंसी के पास पांच-पांच गार्ड दोपहर दो बजे से 8 बजे तक और रात 8 बजे से सुबह 8 बजे तक ड्यूटी करेंगे. इसके अलावा इमरजेंसी के बाहर कोई भी एंबुलेंस ज्यादा देर तक खड़ी मिली तो उसकी हवा निकला दी जाएगी.

वर्जन

दलाल को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया गया. वार्डो के बाहर सुरक्षा और बढ़ा दी गई है.

- डॉ. अभीषेक जीना, सुरक्षा अधिकारी, बीआरडी