जगतपुर में एक निर्माणाधीन घर से बड़ी मात्रा में जहरीली शराब बनाने की सामग्री बरामद

- देशी के नाम पर जहरीली शराब बनाने का धंधा चल रहा था, भनक लगते ही मौके से भागे न

- जिलेभर से पुलिस ने 308 लीटर कच्ची शराब बरामद की

बरेली. यूपी और उत्तराखंड में जहरीली शराब से 100 से अधिक लोगों की जान जाने के बाद पुलिस और आबकारी विभाग की नींद खुल गई है. अब दोनों को शराब बिक्री के ठिकाने भी पता चल गए हैं और ताबड़तोड़ दबिश देकर माल भी पकड़ा जा रहा है. संडे दोपहर आबकारी विभाग ने पुलिस के साथ मिलकर शहर के जगतपुर में निर्माणाधीन मकान में छापा मारकर 40 लीटर रेक्टीफाइड स्प्रिट, वार्सल, यूरिया, लाखों की संख्या में बोतलों के ढक्कन और जहरीली शराब बनाने की सामग्री पकड़ी है. यहां देशी के नाम पर जहरीली शराब बनाने का धंधा चल रहा था. छापेमारी में आबाकारी के 10 इंस्पेक्टर समेत 25 लोगों की टीम शामिल थी, लेकिन वे मौके से एक भी अपराधी को नहीं पकड़ सके. वहीं, सैटरडे रात पुलिस ने जिले में अभियान चलाकर 308 लीटर कच्ची शराब बरामद की थी.

निर्माणाधीन मकान में बना रहे थे शराब

जिला आबकारी अधिकारी डीएन दुबे ने बताया कि प्रदेश में चलाए जा रहे अवैध शराब के अभियान के तहत मुखबिर से सूचना मिली कि जगतपुर में एक निर्माणाधीन मकान में सुधीश भटनागर अपने साथियों के साथ नकली शराब बना रहा है. इसके बाद बारादरी थाना पुलिस की मदद से दबिश दी गई. लेकिन दबिश की भनक लगते ही शराब बना रहे सुधीश भटनागर, जगदीश भटनागर, अक्कू कश्यप व तीन अन्य मौके से भाग गए. टीम को घर के अंदर से काफी संख्या में जहरीली शराब बनाने में इस्तेमाल होने वाली सामग्री बरामद हुई. आबाकारी इंस्पेक्टर सेक्टर 2 विनय कुमार निमेष ने धोखाधड़ी और आबकारी अधिनियम के तहत बारादरी थाना में एफआईआर दर्ज करायी है.

यह सामान हुआ बरामद

- 40 लीटर रेक्टीफाइड स्प्रिट

- 1578 क्यूआर कोड

- 1,17000 ढक्कन

- 1,25000 वॉर्शल

- 1 किलो यूरिया

- 5 लीटर मिलावटी शराब

-------------------

22 लोगों की फौज नहीं पकड़ सकी किसी को

आबकारी विभाग और पुलिस की 22 लोगों की टीम ने जगतपुर में दबिश दी थी, लेकिन वहां मौजूद 6 लोगों में से कोई भी इनके हत्थे नहीं चढ़ सका. एफआईआर में लिखाया गया कि सभी मौके से भाग गए. पीछा करने पर भी कोई हाथ नहीं आया. एफआईआर के मुताबिक दबिश देने वालों में 10 इंस्पेक्टर, जगतपुर चौकी इंचार्ज व अन्य हेड कॉन्सटेबल व कॉन्सटेबल हैं. इसके अलावा जो प्रेस नोट जारी किया गया है उसमें टीम के 12 सदस्यों के नाम दिए गए हैं, जिसमें उप आबकारी आयुक्त राजशेखर उपाध्याय, जिला आबकारी अधिकारी देव नारायण दुबे और 10 इंस्पेक्टर शामिल हैं.

इस बार भी ढक्कन लेकर लौटे

जिस जगह दबिश देकर आबाकरी विभाग ने बरामदगी की है, वहां 4 नवंबर 2018 को भी आबकारी टीम ने दबिश दी थी. तब भी भारी मात्रा में ढक्कन, वार्शल, क्यूआर कोड व 500 लीटर स्प्रिट बरामद हुई थी. टीम ने शराब बनाने वाले जगदीश राठौर, उसके बेटे सुनील राठौर, अक्कू कश्यप और सुधीश को गिरफ्तार किया था. दो स्कूटी सवार प्रॉपर्टी डीलर ब्रिज किशोर व ऑटो ड्राइवर सुशील सक्सेना को पकड़ा था. इस बार भी टीम ने जगदीश राठौर, सुधीश और अक्कू कश्यप को भागते देखा है. इन तीनों के पर नामजद और तीन अन्य खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई है.

------------------------

रात भर चला अभियान

दूसरी ओर पुलिस भी एक्शन में दिख रही है. दो दिन से लगातार रात में अभियान चलाया जा रहा है. सैटरडे रात को पुलिस ने 308 लीटर अवैध कच्ची शराब बरामद की है. 18 अभियुक्तों को गिरफ्तार भी किया गया है. इसके अलावा 5 भट्टियां और डेढ़ क्विंटल लहन नष्ट किए गए हैं.