इस्लामाबाद (पीटीआई)। नेशनल असेंबली में सबसे अधिक सीटें जीतने के बाद पाकिस्तान में सरकार बनाने और संसद में अपनी बहुमत दिखाने के लिए क्रिकेटर से राजनेता बने इमरान खान ने तैयारी शुरू कर दी है। उनकी पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) की ओर से कहा गया कि इमरान सरकार बनाने के लिए विभिन्न राजनीतिक दलों और निर्दलीय उम्मीदवारों को जोड़ने की कोशिश में जुट गए हैं। बता दें कि शुक्रवार को चुनाव आयोग ने नेशनल असेंबली की 272 सीटों में से 268 सीटों का परिणाम घोषित कर दिया था। इमरान खान की पार्टी अब तक नेशनल असेंबली में सबसे अधिक 115 सीटें जीत चुकी है।

बहुमत के लिए चाहिए इतनी सीट

बता दें कि पाकिस्तान की नेशनल असेंबली के सदस्यों की संख्या 342 होती है लेकिन इनमें से सिर्फ 272 सदस्य ही सीधे मतदान के जरिए चुने जाते हैं। इसके अलावा अन्य 70 उम्मीदवारों के लिए चुनाव नहीं होता है। इन 70 सीटों में से 60 सीटें महिलाओं के लिए आरक्षित होती हैं और 10 सीटें पाकिस्‍तान के अल्‍पसंख्‍यक समुदाय के लिए आरक्षित होती हैं। इनका चुनाव आनुपातिक प्रतिनिधित्व नियम के तहत होता है। किसी भी एक पार्टी को बहुमत के लिए 137 सीटों की जरूरत होती है तभी वो सरकार बना पाती है।

नवाज की पार्टी को 64 सीट

नेशनल असेंबली की 267 सीटों में से 115 सीट पर इमरान खान कब्जा जमा चुके हैं। इसके बाद इस बार आम चुनाव में नवाज शरीफ की पार्टी पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एल) 64 सीट जीतकर दूसरे और बिलावल अली भुट्टो की पाकिस्तान पीपल्स पार्टी 43 सीटों के साथ तीसरे नंबर पर है। इसके अलावा बाकी बचे नेशनल असेंबली की 13 सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवारों ने जीत हासिल की है। बता दें कि आम चुनाव में इमरान खान को मिली ज्यादा सीटों के चलते उनके विरोधियों ने चुनाव के नतीजों को खारिज कर दिया है और देश में फिर से पारदर्शी, स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराने की मांग की है।

क्रिकेटर से पाकिस्तान के पीएम बनने तक का इमरान खान का सफर नहीं था आसान

पाकिस्तान चुनाव : इमरान के विपक्षियों ने चुनाव परिणाम को किया खारिज, फिर से इलेक्शन कराने की मांग

इस्लामाबाद (पीटीआई)। नेशनल असेंबली में सबसे अधिक सीटें जीतने के बाद पाकिस्तान में सरकार बनाने और संसद में अपनी बहुमत दिखाने के लिए क्रिकेटर से राजनेता बने इमरान खान ने तैयारी शुरू कर दी है। उनकी पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) की ओर से कहा गया कि इमरान सरकार बनाने के लिए विभिन्न राजनीतिक दलों और निर्दलीय उम्मीदवारों को जोड़ने की कोशिश में जुट गए हैं। बता दें कि शुक्रवार को चुनाव को नेशनल असेंबली की 272 सीटों में से 268 सीटों का परिणाम घोषित कर दिया था। इमरान खान की पार्टी अब तक नेशनल असेंबली में सबसे अधिक 115 सीटें चुकी है।

बहुमत के लिए चाहिए इतनी सीट
बता दें कि पाकिस्तान की नेशनल असेंबली के सदस्यों की संख्या 342 होती है लेकिन इनमें से सिर्फ 272 सदस्य ही सीधे मतदान के जरिए चुने जाते हैं। इसके अलावा अन्य 70 उम्मीदवारों के लिए चुनाव नहीं होता है। इन 70 सीटों में से 60 सीटें महिलाओं के लिए आरक्षित होती हैं और 10 सीटें पाकिस्‍तान के अल्‍पसंख्‍यक समुदाय के लिए आरक्षित होती हैं। इनका चुनाव आनुपातिक प्रतिनिधित्व नियम के तहत होता है। किसी भी एक पार्टी को बहुमत के लिए 137 सीटों की जरूरत होती है तभी वो सरकार बना पाती है।

नवाज की पार्टी को 64 सीट
नेशनल असेंबली की 267 सीटों में से 115 सीट पर इमरान खान कब्जा जमा चुके हैं। इसके बाद इस बार आम चुनाव में नवाज शरीफ की पार्टी पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एल) 64 सीट जीतकर दूसरे और बिलावल अली भुट्टो की पाकिस्तान पीपल्स पार्टी 43 सीटों के साथ तीसरे नंबर पर है। इसके अलावा बाकी बचे नेशनल असेंबली की 13 सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवारों ने जीत हासिल की है। बता दें कि आम चुनाव में इमरान खान को मिली ज्यादा सीटों के चलते उनके विरोधियों ने चुनाव के नतीजों को खारिज कर दिया है और देश में फिर से पारदर्शी, स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराने की मांग की है।


International News inextlive from World News Desk