KOLKATA - JNN): नदी की धारा में बही 62 वर्षीय बुजुर्ग महिला को 13 घंटे बाद सुरक्षित निकाला गया है। नदी की धारा में वह 80 किलोमीटर दूर तक बह गई थी। महिला की जिस तरह से जान बची है, लोग उसे किसी करिश्मे से कम नहीं मान रहे हैं। घटना पश्चिम बंगाल के पूर्व वद्र्धमान जिले की है, जहां 62 वर्षीय  महिला ताप्ती चौधरी उफान मारती दामोदर नदी की तेजधार में बह गई थी।

ताप्ती लगातार 80 किलोमीटर तक पानी के बहाव के साथ बहती चली गईं, तब जाकर किसी की उन पर नजर पड़ी। पूर्व वद्र्धमान जिले के कालीबाजार की रहने वाली ताप्ती आंगनबाड़ी कर्मी हैं। वह शनिवार शाम को दामोदर नदी के उफान को देखने के लिए गई थीं, तभी वह नदी में गिर गई और तेज बहाव में बह गई। पूरी रात वह तेजधार में बहती रहीं और जान बचाने के लिए नदी की धार में हाथ-पैर हिलाती रही। रविवार सुबह कुछ मछुआरों ने उन्हें देखा और उन्हें बचा लिया गया। जब इस महिला को बचाया गया, तब वह पूरी तरह होश में थीं।

फिल्‍मी सॉन्‍ग ही नहीं रियल लाइफ में भी लोगों को छूने से लगता है झटका, कारण जान रह जाएंगे हैरान

नहीं हो रहा यकीन
ताप्ती ने कहा, 'मुझे पता चला कि वह स्थान हुगली जिले के परसुरा में मरकुंडा फेरी घाट था। यह जगह उस स्थान से करीब 80 किलोमीटर दूर है, जहां वह नदी में गिरी थीं। बाद में उन्हें अस्पताल ले जाया गया और फिर उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई। अब भी सदमे से उबरने की कोशिश कर रहीं ताप्ती ने अपने घर पर संवाददाताओं से कहा कि उन्हें यकीन नहीं हो रहा है कि वह मौत के मुंह से बचकर निकल आई हैं।

National News inextlive from India News Desk

National News inextlive from India News Desk