allahabad@inext.co.in
ALLAHABAD: कीडगंज में यमुना नदी में मिले करेली की दो किशोरियों के शव की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में डूबने से मौत की बात सामने आई है. उनके शरीर पर किसी भी तरह के चोट का कोई निशान नहीं मिला है. ऐसे में किशोरियों के साथ किसी भी प्रकार की अपराधिक घटना को लेकर चल रहे कयास खत्म हो गए हैं. हालांकि पुलिस अब यह पता करने में जुटी है कि उन्होंने आखिर सुसाइड क्यों किया?

संदिग्ध युवक की हो रही तलाश
किशोरियों ने सुसाइड जैसा आत्मघाती कदम किस कारण उठाया इसे लेकर पुलिस पड़ताल कर रही है. अब पुलिस उस युवक के बारे में जानकारी जुटाने में जुटी है जिसको शाईस्ता ने आखिरी सलाम लिखकर मैसेज भेजा था. करेली थाना क्षेत्र के 60 फिट रोड गौस नगर निवासी फैयाजुल हसन की बेटी शाईस्ता और मुमताज अंसारी की लड़की इकरा शनिवार शाम से गायब थीं. दोनों ने घरवालों को बताया था कि सिलाई सीखने जा रही हैं. इसके बाद लौटकर नहीं आई. रविवार दोपहर कीडगंज थाना क्षेत्र के नए पुल के नीचे यमुना में उनकी लाश मिली. संदिग्ध दशा में हुई उनकी मौत कई सवाल खड़े कर रही थी. सोमवार को पोस्टमार्टम रिपोर्ट से क्लीयर हुआ कि उनके साथ कोई ज्यादती नहीं हुई. इंस्पेक्टर करेली अवधेश प्रताप सिंह का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में डूबने से मौत की पुष्टि हुई है.

अनसुलझी पहेली इकरा की मौत
पुलिस की मानें तो शाईस्ता का किसी आसिफ नाम के युवक से परिचय था. वह लगातार उसके साथ चैट करती थी. इस बात की जानकारी होने पर परिजनों ने शाईस्ता को फटकार लगाई थी. ऐसे में उसके द्वारा परिजनों की डांट से क्षुब्ध होकर सुसाइड जैसा कदम उठाने की संभावना बन सकती है, लेकिन सहेली इकरा की मौत अबूझ पहेली बनी है. पुलिस यह मान रही है कि संभव है कि घरवालों ने शाईस्ता के साथ इकरा को भी फटकारा हो, लेकिन परिजन इस बारे में ऐसा कुछ भी नहीं बता रहे हैं.

सहेलियों का एक साथ उठा जनाजा
गौस नगर में सोमवार की शाम जब दोनों सहेलियों शाईस्ता और इकरा का जनाजा उठा तो पूरे एरिया में मातम फैल गया. किसी को समझ नहीं आ रहा था कि दो दिन पहले तक जहां दोनों सहेलियां एक दूसरे के साथ खेलती थी, अचानक ऐसा क्या हुआ कि दोनों ने एक साथ मौत को गले लगा लिया.