-डेढ़ साल में पुलिस बनकर टप्पेबाजों ने सात घटनाओं को दिया अंजाम

- दुसरे जिले से आने वाले व्यापरियों को बनाते हैं निशाना

-पुलिस की जागरूकता भी नहीं आ रही काम

GORAKHPUR: सिटी में हो रही आए दिन टप्पेबाजी की घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए पुलिस ने तमाम अभियान चलाए। जिससे पब्लिक किसी के झांसे में आकर फ्रॉड का शिकार न हो। लेकिन टप्पेबाजों ने भी मात देने के लिए अपने काम का तरीका बदला और अब वे पुलिस के भेष में भोलेभाले व्यापारियों को शिकार बनाने लगे। जिससे अब पुलिस और पब्लिक दोनों के लिए टप्पेबाज आतंक का पर्याय बनते जा रहे हैं। हाल ये है कि पुलिस बनकर घटना को अंजाम देने वाले टप्पेबाजों का अभी तक कोई सुराग नहीं मिला है। जबकि पुलिस के पास घटनाओं का सीसी टीवी फुटेज और टप्पेबाजों का स्केच भी है। इसके बाद भी पुलिस टप्पेबाजों के आगे बेबस नजर आ रही है। यही कारण है कि बीते डेढ़ सालों में सात से भी ज्यादा घटनाओं को टप्पेबाजों ने पुलिस बनकर अंजाम दिया है।

निशाने पर बाहर से आने वाले व्यापारी

पुलिस बनकर टप्पेबाजी करने वाले इन जालसाजों के निशाने पर ज्यादातर बाहर से आने वाले व्यापारी व उनके कर्मचारी होते हैं। जालसाज मौका पाकर व्यापारी और कर्मचारियों को निशाना बनाते हैं। ये जालसाज भोलेभाले व्यापारियों को पुलिस बनकर अपना रौब दिखाते हैं और तलाशी लेने के बहाने नकदी और कीमती सामान लेकर फरार हो जाते हैं।

ये है घटनाएं

-24 अक्टूबर 2017 को कोतवाली एरिया में एसओजी का सिपाही बताकर कोलकत्ता के व्यापारी से 7.50 लाख रुपए उड़ाए।

-27 अक्टूबर 2017 को शाहपुर में असुरन चौराहे के पास खुद को असुरन चौकी इंचार्ज और सिपाही बता कर स्कूल प्रबंधक की पत्‍‌नी के गहने उतरवा लिए।

-8 नवंबर 2017 को कोतवाली एरिया में रेती रोड पर कानपुर के ट्रांसपोर्टर तेजनारायण से 1.56 लाख रुपए उड़ाए।

-6 अक्टूबर 2018 को कैंट एरिया के बेतियाहाता में अलहदादपुर की रहने वाली महिला से पुलिस वाला बनकर गहने उड़ाए।

-6 जनवरी 2019 को कोतवाली एरिया के साहबगंज में खुद एसटीएफ का सिपाही बता किराना व्यापारी के मुनीम से 92 हजार रुपए उड़ाए।

-13 जनवरी 2019 को सीवान बिहार के चश्मा व्यापारी मजर आलम से 25 हजार रुपए और आठ कीतमी चश्में उड़ाए।

-12 मार्च 2019 को दीवान दया राम गली में कपड़ा व्यापारी गोविंद अग्रवाल की पत्नी संगीता से पुलिस वाला बनकर गहने उड़ाए।

---------------

जालसाजों की धरपकड़ के लिए टीमें बनाई गई हैं। कुछ क्लू मिले हैं। इस आधार पर पुलिस बदमाशों तक पहुंचने की कोशिश कर रही है। जल्द ही बदमाश पुलिस की गिरफ्त में होंगे।

डॉ। सुनील गुप्ता, एसएसपी