-इनकम टैक्स डिपार्टमेंट से आईटीआर की डेट बढ़ने के बाद लगातार आ रहे फ्राड मैसेज

-यदि बैंक की डिटेल दिया तो रिफंड आने की बजाय बैंक में जमा पूंजी हो सकती है गायब

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने सैलरीड पर्सन के लिए आईटीआर भरने की लास्ट डेट 31 जुलाई से 31 अगस्त कर दी है. इसके बाद अब इनकम टैक्स रिफंड अमाउंट आईटीआर भरने वाले के एकाउंट में डालने के नाम पर फ्राडगिरी शुरू हो गई है. मैसेज भेज कर यूआरएल के जरिये बैंक डिटेल मांगा जा रहा है. यदि आपने डिटेल भरकर भेज दिया तो फिर एकाउंट की जमा पूंजी भी गायब हो सकती है.

कई शहरों में हो चुका है फ्राड

देश की राजधानी दिल्ली के साथ ही अन्य महानगरों में ऐसे फ्राड के कई मामले सामने आए हैं. इलाहाबाद में भी एक-दो शिकायतें अधिकारियों तक पहुंची हैं, लेकिन अभी कोई कार्रवाई नहीं हुई है.

मोबाइल पर आ रहा मैसेज

इनकम टैक्स रिफंड के लिए लोगों के मोबाइल पर मैसेज भेजा जा रहा है. इसमें लिखा है कि अगर आपको इनकम टैक्स रिफंड पाना है तो नीचे दिए गए यूआरएल पर क्लिक करें. यूआरएल पर क्लिक करते ही एक साइट खुलती है. उसमें बैंक डिटेल भरने को कहा जाता है. बैंक एकाउंट नंबर के साथ ही अन्य डिटेल देने पर लोगों के साथ फ्रॉड हो रहा है.

मैसेज मिले तो एलर्ट हो जाएं

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के जिम्मेदार अधिकारियों का कहना है कि इनकम टैक्स डिपार्टमेंट कभी भी किसी के मोबाइल पर इस तरह का मैसेज नहीं भेजता है. अगर किसी के मोबाइल पर इनकम टैक्स रिफंड के लिए डिपार्टमेंट के नाम पर कोई मैसेज आता है तो उस पर क्लिक न करें. इसकी शिकायत साइबर क्राइम डिपार्टमेंट में करें.

आरबीआई भी कर रहा है एलर्ट

इस तरह की लगातार बढ़ रही घटनाओं को देखते हुए आरबीआई भी लोगों को एलर्ट कर रहा है. मैसेज भेज कर कहा जा रहा है कि ई-बैंकिंग, एसएमएस-ईमेल अलर्ट को लेकर सतर्क रहें. धोखाधड़ी से बचने व अधिक जानकारी के लिए 14440 पर मिस्ड कॉल करें. इस नंबर पर कॉल करने के बाद बैक काल आएगी. इसमें बताया जा रहा है कि किसी को भी अपने खाते से संबंधित कोई डिटेल न दें. फ्राड के शिकार होते हैं तो तत्काल बैंक से संपर्क करें.

साइबर क्रिमिनल कुछ ज्यादा ही एक्टिव हो गए हैं, जो मौका मिलते ही लोगों के एकाउंट से पैसा गायब कर दे रहे हैं. आए दिन इस तरह के मामले सामने आ रहे हैं. टैक्स रिफंड के नाम पर भी लोगों के मोबाइल पर मैसेज आने की शिकायतें आ रही हैं. इसलिए सतर्क रहना ही बेहतर ऑप्शन है.

सुमित अग्रवाल

सीए