टीम पर बरसाए पत्‍थर
गुवाहाटी में मंगलवार को पहली बार कोई इंटरनेशनल मैच खेला गया। इस दौरान दर्शकों में गजब का उत्‍साह दिखा, पूरा स्‍टेडियम खचाखच भरा था। हर किसी को उम्‍मीद थी कि, भारत यहां भी कंगारुओं के खिलाफ एक शानदार जीत दर्ज करेगा लेकिन ऐसा हुआ नहीं। ऑस्‍ट्रेलिया ने यह मैच 8 विकेट से जीत लिया। भारतीय फैंस इस हार को बर्दाश्‍त नहीं कर पाए और उन्‍होंने ऑस्‍ट्रेलियाई टीम के होटल लौटते वक्‍त बस पर पत्‍थरों से हमला कर दिया। क्रिकेट ऑस्‍ट्रेलिया ने ऑफिशियल बयान जारी कर इस घटना की जानकारी दी है। टीम जब वापस लौट रही थी, उस दौरान बस की दाहिनी खिड़की पर पत्‍थर फेंका गया। हालांकि उस सीट पर कोई नहीं बैठा था इसलिए कोई खिलाड़ी घायल नहीं हुआ।  
क्रिकेट टीम पर हमले : जब खिलाडि़यों पर पत्‍थर ही नहीं गोलियां भी चलीं
श्रीलंकाई टीम पर चलीं थीं गोलियां
क्रिकेट टीम पर हमले का सबसे चर्चित मामला 2009 में सामने आया था। श्रीलंकाई टीम पाकिस्‍तान दौरे पर थी वहां के गद्दाफी स्‍टेडियम में मैच खेला जाना था। श्रीलंका टीम बस में बैठकर होटल से मैदान की ओर जा रही थी। कि अचानक 10-12 बंदूकधारियों ने बस पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसा दीं। इस हमले में श्रीलंका के छह क्रिकेटर्स घायल हुआ थे। इसमें छह पुलिसकर्मी और दो आम नागरिकों को मौत हुई। आतंकियों ने राकेट भी दागे लेकिन निशाना चूक गया था। इसके बाद बस के नीचे ग्रेनेड फेंका गया जोकि फूटा नहीं। आखिर में आतंकियों ने सड़क किनारे खड़े होकर गोलियां बरसाईं। दो श्रीलंकाई खिलाडी समरवीरा और परनावितरना को गंभीर रूप से चोट आई थी।
क्रिकेट टीम पर हमले : जब खिलाडि़यों पर पत्‍थर ही नहीं गोलियां भी चलीं

Cricket News inextlive from Cricket News Desk

Cricket News inextlive from Cricket News Desk