गेंद को कट करने का प्रयास
318 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए बांग्लादेश की शुरुआत अच्छी नहीं रही और धवल कुलकर्णी ने तमीम इकबाल (5) को एलबीडब्ल्यू कर मेहमानों को पहली सफलता दिलाई। इसके बाद सौम्या सरकार (40, 5 चौके, 2 छक्के) उम्दा बल्लेबाजी कर रहे थे, लेकिन वे कुलकर्णी की धीमी गेंद पर चकमा खा बैठे और उन्होंने मिडऑन पर अश्विन को कैच थमा दिया। 62 रनों पर दूसरा विकेट गंवाने के बावजूद घरू टीम की तरफ से लिटन दास और मुश्फिकुर रहीम ने रन गति को बनाए रखा।रहीम (24) ने सुरेश रैना की तेज गेंद को कट करने का प्रयास किया और विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी ने शानदार कैच लपका। अभी घरू टीम इस सदमे से उबर भी नहीं पाई थी कि अक्षर पटेल ने सीधी गेंद पर लिटन दास (38) को बोल्ड कर अपनी टीम का पलड़ा थोड़ा भारी कर दिया। अब टीम की उम्मीदें शाकिब अल हसन पर टिक गई थी, लेकिन वे 20 रन बनाने के बाद रैना की गेंद पर लांग ऑन पर कुलकर्णी द्वारा लपके गए।

शॉट लगाने के चक्कर में बोल्‍ड
148/5 की विषम स्थिति के बावजूद शब्बीर रहमान (43) ने नासिर हुसैन को साथ लेकर छठें विकेट के लिए तेजी से रन जोड़े। इन दोनों ने 39 गेंदों पर 49 रनों की भागीदारी कर मैच का रूख अपनी टीम की तरफ मोड़ना शुरू किया था कि बिन्नी ने शब्बीर को बोल्ड कर दिया। उन्होंने 38 गेंदों में 6 चौकों की मदद से 43 रन बनाए। रविचंद्रन अश्विन की गेंद पर बड़ा शॉट लगाने के चक्कर में कप्तान मशरफे मुर्तजा बोल्ड हुए। ‍अश्विन ने नासिर (32) को रायुडू के हाथों झिलवाया। रैना ने रूबेल (2) को चलता किया तो रायुडू ने मुस्ताफिजुर (9) को आउट कर घरू टीम की पारी को समेटा। अराफात सनी 14 रनों पर नाबाद रहे। रैना सबसे सफल गेंदबाज रहे, उन्होंने 45 रनों पर 3 विकेट लिए। कुलकर्णी और अश्विन को 2-2 विकेट मिले।

मेहमान टीम को दूसरा झटका

इससे पहले बांग्लादेश ने टॉस जीतकर पहले ‍फील्डिंग करने का निर्णय लिया। पूरी सीरीज में टीम इंडिया के लिए सिरदर्द बने युवा बाएं हाथ के तेज गेंदबाज मुस्‍ताफिजुर ने तीसरे वन-डे में भी अपना जलवा कायम रखा। उन्‍होंने रोहित शर्मा (29) को लिटन दास के हाथों झिलवाया। धवन ने अराफात सनी की गेंद पर लगातार दो चौके लगाकर फिफ्टी पूरी की। शाकिब ने विराट (25) को बोल्ड कर मेहमान टीम को दूसरा झटका दिया। विराट और धवन ने दूसरे विकेट के लिए 75 रनों की भागीदारी की।धवन की शानदार पारी से भारत सुखद स्थिति की तरफ बढ़ता दिख रहा था तभी बांग्लादेशी कप्तान मशरफे मुर्तजा की एक धीमी ऑफ कटर को धवन ने मिडविकेट की तरफ खेला और नासिर हुसैन ने उनका शानदार कैच लपका। धवन ने 73 गेंदों पर 10 चौकों की मदद से 75 रन बनाए। भारत को तीसरा झटका 158 के स्कोर पर लगा था। इसके बाद धोनी और रायुडू ने पारी को संभाला।

धीमी गति की गेंद पर क्‍लीन बोल्‍ड
रायुडू दुर्भाग्यशाली रहे कि अंपायर ने उन्हें मशरफे मुर्तजा की गेंद पर विकेटकीपर लिटन दास के हाथों कैच आउट करार दिया जबकि गेंद उनके बल्ले को नहीं थाई पैड को लगकर गई थी। रायुडू (44) ने धोनी के साथ चौथे विकेट के लिए 93 रनों की भागीदारी की। मुर्तजा ने भारत को करारा झटका दिया जब धोनी उनकी गेंद पर डीप मिडविकेट पर मुस्ताफिजुर द्वारा लपके गए। धोनी ने 77 गेंदों में 6 चौकों व 1 छक्के की मदद से 69 रन बनाए। मुस्‍ताफिजुर रहमान ने सुरेश रैना (38) को धीमी गति की गेंद पर क्‍लीन बोल्‍ड कर दिया। स्‍टुअर्ट बिन्‍नी 15 और अक्षर पटेल 10 रन बनाकर नाबाद रहे। भारत ने पहली बार सीरीज में 300 रन का आंकड़ा पार किया। बांग्‍लादेश की तरफ से मशरफे मुर्तजा ने सर्वाधिक तीन विकेट लिए। मुस्‍ताफिजुर ने दो तथा शकीब अल हसन ने एक विकेट लिया।

Hindi News from Cricket News Desk

Cricket News inextlive from Cricket News Desk