कानपुर। लॉर्ड्स में खेले जा रहे दूसरे टेस्ट में टीम इंडिया पहली पारी में बुरी तरह लड़खड़ा गई। इस मुकाबले में पहले बल्लेबाजी करते हुए खेल के दूसरे दिन भारतीय टीम की पहली पारी 107 रन पर सिमट गई। बारिश से प्रभावित इस मैच की पहली पारी में इंग्लैंड के तेज गेंदबाजों का कोई तोड़ भारतीय बल्लेबाजों के पास नजर नहीं आया। बारिश की वजह से खेल के पहले दिन एक भी गेंद नहीं फेंकी जा सकी थी। खेल के दूसरे दिन टॉस हुआ और इंग्लैंड की टीम ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला किया। इंग्लैंड के तेज गेंदबाजों जेम्स एंडरसन ने पांच, क्रिस वोक्स ने दो जबकि स्टुअर्ट ब्रॉड व सैम कुर्रन ने एक-एक विकेट लिए और विराट सेना को सिर्फ 35.2 ओवर में ही समेट दिया।

लॉर्ड्स मैदान पर टीम इंडिया का यह चौथा सबसे कम स्कोर है। ईएसपीएन क्रिकइन्फो के डेटा के मुताबिक, तकरीबन 40 साल बाद लॉर्ड्स में भारत ने इतना कम स्कोर बनाया है। इसी के साथ विराट कोहली के नाम यह अनचाहा रिकॉर्ड दर्ज हो गया।
लॉर्ड्स में भारत के 5 सबसे कम स्कोर,40 साल बाद कोहली के नाम लगा ये कलंक
ये हैं लॉर्ड्स में भारत के 5 सबसे कम स्कोर


1. 110 रन (साल 1967)
भारत का लॉर्ड्स में 5वां सबसे कम स्कोर 110 रन है। फारुख इंजीनियर की कप्तानी में भारत ने यह स्कोर तीसरी पारी में बनाया था। वाडेकर (19) और कुंदरन (47) को छोड़कर कोई भी भारतीय बल्लेबाज दहाई के अंक तक भी नहीं पहुंच सका था। मेजबान इंग्लैंड यह मैच पारी और 124 रन के अंतर से जीत गया था।

2. 107 रन (साल 2018)
यह भारत का चौथा सबसे कम स्कोर है। विराट कोहली की अगुआई में टीम इंडिया पहली पारी में मात्र 35 ओवर ही खेल पाई। टीम की तरफ से सर्वाधिक स्कोर 29 रन गेंदबाज आर अश्विन ने बनाए। इसी से आप अंदाजा लगा सकते हैं कि भारतीय बल्लेबाज पूरी तरह से फ्लॉप रहे। खैर मैच का नतीजा तो अभी नहीं आया मगर भारत को इस टेस्ट में वापसी करनी है तो गेंदबाजों को कुछ कमाल दिखाना होगा।

3. 96 रन (साल 1979)
साल 1979 में भारत श्रीनिवास वेंकटराघवन की कप्तानी में इंग्लैंड दौरे पर थी। लॉर्ड्स में खेले गए दूसरे टेस्ट की पहली पारी में टीम इंडिया 96 रन पर ऑलआउट हो गई। तब भारत के 7 बल्लेबाज दहाई का अंक भी नहीं छू सके थे। हालांकि इस खराब परफॉर्मेंस का खामियाजा भारत को भुगतना नहीं पड़ा क्योंकि ये मैच ड्रा हो गया था।

4. 93 रन (साल 1936)
साल 1936 में भारतीय टीम ने महाराज ऑफ विजयनगर की कप्तानी में लॉर्ड्स में एक टेस्ट मैच खेला था। दूसरी पारी में भारत 93 रन पर ऑलआउट हो गया था। पूरी टीम सिर्फ 46 ओवर ही खेल पाई थी। तब भारत के 8 बल्लेबाज दहाई का अंक भी नहीं छू पाए थे और टीम इंडिया यह मैच 9 विकेट से हार गई थी।

5. 42 रन (साल 1974)
अजीत वाडेकर की कप्तानी में भारतीय टीम तीन मैचों की टेस्ट सीरीज खेलने इंग्लैंड गई थी। सीरीज का दूसरा मैच लॉर्ड्स मैदान पर खेला गया। मेजबान इंग्लैंड ने पहली पारी में 629 रन का विशाल स्कोर खड़ा किया जवाब में भारतीय टीम अपनी फर्स्ट इनिंग में 302 रन ही बना पाई थी। ऐसे में भारत को फॉलोआन खेलना पड़ा मगर दूसरी पारी में तो भारतीय बल्लेबाजों का प्रदर्शन इतना निराशाजनक रहा कि अनचाहा रिकॉर्ड ही बन गया। पूरी टीम 42 रन पर ऑलआउट हो गई एकनाथ सोलकर (18) को छोड़कर कोई भी भारतीय बल्लेबाज दहाई के अंक तक नहीं पहुंच सका। इसी के साथ भारत यह मैच पारी और 285 रनों से हार गया।

लॉर्ड्स में टीम इंडिया का खाना देख फैंस पूछ रहे, इसे खाने के बाद खेलते कैसे हो?

लॉर्ड्स टेस्ट : 15 अगस्त से पहले अंग्रेजों ने विराट कोहली के सामने तिरंगे का किया अपमान

Cricket News inextlive from Cricket News Desk