कानपुर। भारत और इंग्लैंड के बीच ट्रेंट ब्रिज में खेले गए तीसरे टेस्ट में भारत ने मेजबान इंग्लैंड को 203 रन से हरा दिया। तीसरे टेस्ट के 5वें दिन इंग्लैंड का संघर्ष केवल17 गेंद तक ही चल पाया और 521 रन के विशाल लक्ष्य के सामने इंग्लैंड की पूरी पारी 317 रन पर सिमट गई। मैच की दूसरी पारी में भारत की तरफ से जसप्रीत बुमराह ने शानदार गेंदबाजी करते हुए कुल पांच विकेट चटकाए। वहीं इशांत को 2 और हार्दिक, शमी और अश्विन ने 1-1 विकेट लिया। तीसरा टेस्ट जीतने के बाद भी भारत इस सीरीज में 1-2 से पीछे है।

यह है भारत की 25वीं टेस्ट जीत
भारत और इंग्लैंड के बीच टेस्ट रिकॉर्ड काफी पुराना है। क्रिकइन्फो के डेटा के मुताबिक, भारत ने इंग्लैंड के खिलाफ पहला टेस्ट मैच साल 1932 में खेला था। तब से लेकर दोनों देशों के बीच अब तक 120 टेस्ट मैच खेले जा चुके जिसमें सिर्फ 25 बार टीम इंडिया जीती है जबकि 45 मैच उनके हाथ से निकल गए। यही नहीं 49 मैच तो ड्रा रहे।
86 सालों में इंग्लैंड में 7वीं बार कोई टेस्ट मैच जीता है भारत
इंग्लैंड में यह है 7वीं टेस्ट जीत
इंग्लैंड में तेज उछाल वाली पिचों पर भारत का टेस्ट रिकॉर्ड भले ही शानदार न हो मगर विराट कोहली की अगुआई में ट्रेंट ब्रिज टेस्ट में टीम इंडिया ने नया कीर्तिमान रच दिया। भारत ने अंग्रेजों के खिलाफ उन्हीं की धरती पर यह 7वीं टेस्ट जीत दर्ज की। दोनों देशों के बीच कुल 60 मैच खेले गए 32 मैच हार गए। वहीं 21 मैच ड्रा रहे।

इंग्लैंड में सिर्फ 3 सीरीज जीते हैं
भारत ने इंग्लैंड में अभी तक कुल 17 टेस्ट सीरीज खेली हैं जिसमें सिर्फ 3 में उन्हें जीत मिली जबकि 13 बार हार का सामना करना पड़ा। वहीं दो सीरीज ड्रा रहीं। विराट कोहली ने तीसरा टेस्ट जीतकर मौजूदा सीरीज को फिर से रोचक बना दिया है अब उन्हें यह सीरीज अपने नाम करनी है बाकी के दो मैच भी जीतने होंगे।

1971 में मिली थी पहली जीत
1971 में अजीत वाडेकर की अगुआई में भारत ने तीन टेस्ट मैचों की सीरीज खेली। पहले दो मैच ड्रा रहने के बाद भारत के पास आखिरी मैच जीतकर इतिहास रचने का मौका था। भारत के पहले वनडे कप्तान भी रहे अजीत वाडेकर ने इस टेस्ट मैच को हाथ से नहीं जाने दिया। ओवल में खेला गया यह मैच भारत 4 विकेट से जीत गया इसी के साथ सीरीज भी 1-0 से अपने नाम की।
86 सालों में इंग्लैंड में 7वीं बार कोई टेस्ट मैच जीता है भारत
1986 में मिली दूसरी जीत
1986 में कपिल देव की कप्तानी में टीम इंडिया तीन टेस्ट मैचों की सीरीज खेलने इंग्लैंड गई थी। लॉर्ड्स में खेला गया पहला टेस्ट मैच भारत ने 5 विकेट से जीता, फिर लीड्स में दूसरे टेस्ट में मेजबान इंग्लैंड को 279 रन से मात दी। तीन मैचों की इस सीरीज में भारत 2-0 की अजेय बढ़त बना चुका था, मगर आखिरी मैच भी ड्रा कराकर कपिल देव ने अंग्रेजों का पूरी तरह से सफाया कर दिया था।

2007 में जीती तीसरी सीरीज
दो टेस्ट सीरीज जीतने के बाद तीसरी सीरीज जीत के लिए भारत को फिर 2007 तक इंतजार करना पड़ा। तब टीम इंडिया की कमान राहुल द्रविड़ के हाथों में थी। भारत तीन टेस्ट मैचों की सीरीज खेलने इंग्लैंड गया था। विश्व क्रिकेट में 'द वॉल' नाम से मशहूर राहुल द्रविड़ को उस वक्त कप्तानी का ज्यादा अनुभव भी नहीं था, इसके बावजूद उन्होंने तीन मैचों की यह सीरीज 1-0 से जीतकर इतिहास रच दिया। भारत ने सीरीज के पहले और तीसरे मैच को ड्रा कराया तो वहीं दूसरे मैच में 7 विकेट से जीत दर्ज कर सीरीज अपने नाम की।

86 सालों में इंग्लैंड में भारत ने जीती हैं सिर्फ 3 टेस्ट सीरीज, इतनी बार मिली हार

इन 5 खिलाड़ियों की बदौलत इंग्लैंड में 36 साल बाद भारत को मिली सबसे बड़ी जीत

Cricket News inextlive from Cricket News Desk