कानपुर। भारत बनाम इंग्लैंड के बीच पांच मैचों की टेस्ट सीरीज का आगाज 1 अगस्त से होगा। पहला मैच एजबस्टन में खेला जाएगा। बतौर कप्तान इंग्लैंड में विराट की यह पहली टेस्ट सीरीज होगी। पिछली बार भारत यहां 2014 में खेलने आई थी तब टीम की कमान एमएस धोनी के हाथों में थी। इंग्लैंड में भारत के टेस्ट रिकॉर्ड की बात करें तो अब तक दोनों टीमों के बीच 17 टेस्ट सीरीज खेली गई हैं जिसमें सिर्फ 3 भारत के खाते में आईं जबकि एक ड्रा रही। मगर विराट इस रिकॉर्ड को बेहतर बनाने के लिए पहला टेस्ट हर हाल में जीतना चाहेंगे। इसके लिए विराट का बल्ला चलना भी बहुत जरूरी है।

दिनेश कार्तिक हैं 2007 सीरीज खेलने वाले इकलौते खिलाड़ी

विराट के लिए यह सीरीज इतनी आसान भी नहीं रहने वाली। ईएसपीएन क्रिकइन्फो के डेटा के मुताबिक, भारत ने यहां आखिरी बार 2007 में कोई टेस्ट सीरीज जीती थी। तब राहुल द्रविड़ की कप्तानी में भारत तीन टेस्ट मैचों की सीरीज खेलने गई थी। पहला मैच ड्रा रहा जबकि दूसरा मैच भारत ने 7 विकेट से जीत लिया था। वहीं तीसरा टेस्ट भी ड्रा पर छूटा। इस तरह भारत ने 1-0 से यह सीरीज अपने नाम कर ली। तब से लेकर अब तक भारत यहां दो बार दौरा कर चुका मगर हार बार हार नसीब हुई। मगर विराट इस मामले में थोड़ा लकी साबित हो सकते हैं क्योंकि उनके पास एक ऐसा खिलाड़ी है जो 2007 टेस्ट जीतकर आया है। जी हां मौजूदा भारतीय टीम में दिनेश कार्तिक ही इकलौते क्रिकेटर हैं जो 2007 में भी टीम इंडिया का हिस्सा थे। उस वक्त भी कार्तिक ने विकेटकीपर बल्लेबाज की भूमिका निभाई थी और इस सीरीज में भी उन्हें यह जिम्मेदारी दी गई है। ऐसे में भारतीय प्रशंसकों को उम्मीद होगी कि कार्तिक टीम इंडिया के लकी चार्म साबित हों और इंग्लैंड में भारत का पिछले एक दशक से पड़ा टेस्ट सीरीज जीत का सूखा खत्म हो।
2007 में इंग्लैंड में जब जीते थे तब ये खिलाड़ी टीम में था,आज भी है,क्या साबित होगा लकी?
अगर भारत पांचों टेस्ट हार जाता है तो

इंग्लिश धरती पर टेस्ट में टीम इंडिया का रिकॉर्ड भले ही ज्यादा शानदार न रहा हो, मगर विराट कोहली की अगुआई में भारतीय टीम अंग्रेजों को कड़ी टक्कर देने की कोशिश करेगी। पांच मैचों की इस सीरीज का परिणाम क्या निकलेगा यह तो वक्त बताएगा। फिलहाल भारत आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में नंबर वन बना हुआ है। अक्सर देखा जाता है कि किसी बड़ी सीरीज के बाद दोनों टीमों की रैंकिंग में बदलाव जरूर होते हैं। मगर इस बार अगर भारत पांचों टेस्ट हार जाता है फिर भी वह नंबर वन बना रहेगा।

नहीं छिनेगी बादशाहत

आईसीसी की ताजा टेस्ट रैंकिंग के अनुसार भारत 125 अंकों के साथ सबसे ऊपर है। वहीं विरोधी टीम इंग्लैंड 97 अंकों के साथ 5वें नंबर पर है। अब अगर भारत बनाम इंग्लैंड की पांच टेस्ट मैचों की सीरीज मेजबान इंग्लैंड के नाम रहती है तो भारत के अंक घटकर 112 हो जाएंगे मगर नंबर वन की कुर्सी नहीं छिनेगी। हालांकि इंग्लैंड को भारत के खिलाफ क्लीन स्वीप का फायदा जरूर मिलेगा। इंग्लिश टीम पांचों टेस्ट जीतकर 5वें नंबर से सीधे दूसरे पायदान पर आ जाएगी।

इंग्लैंड का 1000वां टेस्ट मैच : इस गेंदबाज ने फेंकी थी टेस्ट क्रिकेट की पहली गेंद

इंग्लैंड ने दिया था कोहली को गम, अब वहीं विराट बनेंगे टेस्ट में बल्लेबाज नंबर 1

Cricket News inextlive from Cricket News Desk