सपाट पिच पर लाइन-लेंथ जरूरी
भुवनेश्‍वर कुमार ने कहा कि पहला टेस्‍ट मैच जीतने के लिये उन्‍हें और गेंदबाजी के साथियों को ध्‍ौर्य के साथ खेलना होगा. ट्रेंटबिज की पिच सपाट है जिसके कारण उसकी आलोचना भी की जा रही है. भुवनेश्‍वर का मानना है कि इंग्‍लैंड के बल्‍लेबाजी क्रम को ढहाने के लिये भारतीय गेंदबाजों को अनुशासित प्रदर्शन करना होगा. उन्‍होंने दूसरे दिन का खेल समाप्‍त होने के बाद संवाददाता सम्‍मेलन में कहा कि हम पिच को लेकर कुछ नहीं कह सकते. हमें धैर्य बरतना होगा. यह काफी हद तक भारतीय पिच जैसी है. हमें विकेट टू विकेट गेंदबाजी करनी होगी. हमें ऐसी परिस्थितियों में खेलने का काफी अनुभव है और हम जानते हैं कि क्‍या करने की जरूरत है.

करियर की पहली हॉफ सेंचुरी
भुवनेश्‍वर कुमार ने कहा कि पिच भले ही न बदली हो लेकिन यह बाद में टर्न ले सकती है. हम इंग्‍लैंड को आउट करने के प्रति आश्‍वस्‍त हैं. हमें ऐया करना होगा क्‍योंकि हम यह मैच जीतना चाहते हैं. गौरतलब है कि इंग्‍लैंड के गेंदबाजों को भारतीय पारी समेटने के लिये काफी मेहनत करनी पड़ी. भुवनेश्‍वर और मोहम्‍मद शमी ने अंतिम विकेट के लिये 111 रनों की साझेदारी करके इंग्‍लैंड की परेशानी बढ़ा दी. अपने करियर का पहली हॉफ सेंचुरी (58) बनाने वाले भुवनेश्‍वर ने कहा कि मुझे नहीं लगता कि इंग्‍लैंड ने खराब गेंदबाजी की. उन्‍होंने हम पर काफी दबाव डाला. इस तरह की पिच पर आपको कुछ अलग करने की जरूरत होती है. यदि आखिरी विकेट के लिये शतकीय साझेदारी होती है तो गेंदबाज थक जायेंगे और हताश हो जायेंगे.

Cricket News inextlive from Cricket News Desk