अब हालात काफी ठीक
डाउ जोंस एंड कंपनी की पत्रिका मार्केटवाच दिए एक इंटरव्यू में राजन ने कहा कि उनका मानना है कि हम उस दिशा की तरफ बढ़ रहे हैं जहां हम अपनी मध्यावधि में विकास के लक्ष्यों को हासिल कर सकते हैं क्योंकि पहले के मुकाबले अब हालात ठीक हो रहे हैं। राजन के मुताबिक भारत में निवेश में मजबूती आ रही है और काफी हद तक स्थिरता भी बनी हुई है। राजन ने कहा कि बेशक भारतीय अर्थव्यवस्था वैश्विक अर्थव्यवस्था के हर झटके से अछूती नहीं रही हो लेकिन बहुत से झटकों से बची है।

राजन को जाता है इसका श्रेय
आपको बता दें कि कमजोर वैश्विक आर्थिक हालात के बीच आईएमएफ सहित विभिन्न संस्थानों ने भारतीय अर्थव्यवस्था को आर्थिक वृद्धि के लिहाज से चमकते बिंदुओं में से एक करार दिया है। राजन की अगुवाई में रिजर्व बैंक को भी इस बात का श्रेय दिया जाता है कि उसने देश की वित्तीय प्रणाली को बाहरी झटकों से बचाने के लिए उचित कदम उठाए हैं।

नहीं रुकनी चाहिए रफ्तार
पत्रकारों ने जब राजन से जब चमकते बिंदु वाले इस सिद्धांत पर उनकी राय जाननी चाही तो उन्होंने कहा मुझे लगता है कि हमें अब भी वह स्थान हासिल करना है जहां हम संतुष्ट हो सकें। उन्होंने कहा कि हमारे यहां एक लोकोक्ति है,‘अंधों में काना राजा... हम थोड़ा बहुत वैसे ही हैं।’ अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष के पूर्व मुख्य अर्थशास्त्री राजन यहां विश्व बैंक व आईएमएफ की सालाना बैठक के साथ साथ जी20 के वित्तमंत्रियों व केंद्रीय बैंक गवर्नरों की बैठक में भाग लेने यहां आए हैं।

inextlive from Business News Desk

Business News inextlive from Business News Desk