वाशिंगटन (पीटीआई)। अमेरिका में 61 वर्षीय भारतीय व्यक्ति यदविंदर सिंह संधू को मानव तस्करी के मामले में पांच साल की सजा हुई है। उस पर भारतीयों व अन्य विदेशी नागरिकों को अवैध रूप से अमेरिका लाने का आरोप था। बता दें इस साल की शुरुआत में यदविंदर ने अदालत में अपना अपराध कबूल लिया था। अमेरिकी न्याय विभाग के मुताबिक, संधू ने 2013 से 2015 के बीच 400 लोगों को अवैध तरीके से अमेरिका में घुसने में मदद की थी। इस दौरान एक व्यक्ति की मौत हो गई थी और कई लोगों की जान खतरे में पड़ गई।  15 मार्च, 2017 को संधू के खिलाफ दर्ज मुकदमे के अनुसार, उसने अमेरिका में तस्करी के लिए कई बार भूपेंद्र कुमार, राजेंद्र सिंह, रॉबर्ट स्कॉट जैसे नामों का इस्तेमाल किया था।

श्रीलंका सीरियल ब्लास्ट : कोलंबो में एक और बम धमाका, अब तक कुल 160 की मौत, 450 लोग घायल

फर्जी पहचान पत्र भी बनवाए

वह डोमिनिकन गणराज्य, हैती, प्यूर्टोरिको और भारत समेत दुनियाभर में कई जगहों पर सक्रिय मानव तस्कर गिरोह के प्रमुख लोगों में से एक था। उसका गिरोह विदेशियों को फ्लाइट और पानी वाले जहाज के जरिये पहले डोमिनिकन गणराज्य भेजता था। वहां से फिर उन्हें न्यूयॉर्क और कैलिफोर्निया समेत अमेरिका के अन्य शहरों में भेजा जाता था। संधू ने कुछ विदेशियों के लिए फर्जी पहचान पत्र भी बनवाए थे। उसने कई बार उन विदेशियों का उत्पीड़न कर उनके परिवार से पैसे भी हासिल किये। भारत से अमेरिका आने वाले कई लोगों ने संधू को 30 हजार डॉलर (करीब 20 लाख रुपये) से 85 हजार डॉलर (करीब 60 लाख रुपये) तक दिया था।

International News inextlive from World News Desk