jamshedpur@inext.co.in

JAMSHEDPUR: जागरण समूह की ओर से आयोजित इंडियन इंटेलीजेंस टेस्ट (आईआईटी) रविवार को मानगो-डिमना रोड स्थित दैनिक जागरण कार्यालय में संपन्न कराया गया. ऑनलाइन माध्यम से भरे गए फार्मो में शहर के साथ ही घाटशिाला, चाईबासा और सरायकेला जिले से काफी संख्या में आए छात्रों ने परीक्षा में भाग लिया. परीक्षा में इंटेलीजेंस के 40 और एप्यूट्यूड के 60 प्रश्न पूछे गए. परीक्षा में कक्षा 5 से 12वीं तक के छात्रों ने हिस्सा लिया. परीक्षा के बाद बच्चों ने बताया कि जहां गणित के प्रश्नों जटिल लगे वहीं जीके और रीजनिंग के प्रश्न ठीक रहे. परीक्षा के स्वरूप को देखकर छात्रों के साथ आये अभिभावकों ने परीक्षा की सराहना की.

बुद्धिमत्ता परीक्षण के प्रश्नों में उलझे

आईआईटी परीक्षा के पहले खंड में आए बुद्धिमत्ता परीक्षण के 40 प्रश्नों में जूनियर के छात्र उलझे रहे. भाषा आधारित प्रश्नों में उलझे दिखाई दिए. परीक्षा के बाद छात्रों ने बताया कि फ‌र्स्ट सेक्शन में पूछे गए लैग्वेंज के प्रश्न एक से ही लगे, लेकिन बारीकी से पढ़ने पर लैग्वेज और ग्रामर की त्रुटियां समझ में आईं.

सामान्य ज्ञान के सवाल देख खिले चेहरे

आईआईटी सीजन-6 में समान्य ज्ञान और रीजनिंग के प्रश्न देखकर छात्र खुश वहीं गणित और अंग्रेजी के प्रश्नों में छात्र एक बार फिर से उलझे रहे. समान्य ज्ञान में करेंट अफेयर के प्रश्नों और रीजनिंग के प्रश्नों को छात्रों ने जल्द ही कर लिया. वहीं गणित के प्रश्नों में छात्र-छात्राएं जद्दोजहद करते दिखे. अंग्रेजी के प्रश्नों में हिन्दी मीडियम के बच्चों के पसीने छूटे तो वहीं अंग्रेजी के बच्चों के चेहरे खिले रहे.

प्रतियोगी परीक्षा के लिए रोडमैप तैयार करता है आईआईटी

आईआईटी सीजन-6 में परीक्षा में बैठने वाले छात्रों को ओएमआर सीट भरने प्रश्नों का हल करने के बाद ओएमआर सीट में गोले काले करने की कला भी छात्रों ने सीखी. परीक्षा में सभी ऑब्जेक्टिव टाइप के प्रश्नों से आने वाले प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए छात्रों को रोड मैप तैयार हो गया. छात्र-छात्राओं ने बताया कि इन सबमें ओएमआर को फिल करना हमारे के लिए सबसे महत्वपूर्ण था, जिससे आगे की परीक्षा में हम ओएमआर सीट आदि सही से फिल कर पाएंगे.

प्रतियोगिता की भावना का होता विकास

आईआईटी परीक्षा में शामिल छात्रों ने बताया कि आईआईटी का स्वरूप छात्रों को कंपटीशन के प्रति जागरूक करता है. परीक्षा में जरनल इंटेलीजेंस, जरनल नॉलेज, न्यूमेरिकल एबीलिटी, इंग्लिश और रीजनिंग के प्रश्न पूछे गए जो छात्र के आईक्यू और उनके नॉलेज पावर को दर्शाता हैं. जिससे हम आगे के कंपटीशन के लिए खुद को तैयार कर पाते हैं. अभिभावकों ने कहा कि यह पहला स्टेज जहां छात्र कंपटीशन क्या है इस बात को समझते है. जिससे उनके अंदर प्रतियोगी परीक्षाओं के प्रति रुझान बढ़ता है. जिससे वह आगे भी अपना नॉलेज बढ़ाने की कोशिश करते हैं.

अच्छे कॅरियर का कर सकते हैं चुनाव

आईआईटी के माध्यम से छात्र अच्छे करियर का चुनाव किया जा सकता है. बता दें कि परीक्षा के रिजल्ट के दौरान छात्रों द्वारा साल्व किए गए प्रश्नों के आधार पर अपने कॅरियर की राह चुन सकते हैं.

आईआईटी में पूछे गए लगभग सारे प्रश्न आसान रहे, पर रिजनिंग का विषय थोड़ा कठिन रहा. इस एक्जाम से बहुत कुछ सिखने को मिला. इससे भविष्य में हम सभी को काफी लाभ मिलेगा.

सारक्क्षी पाणी, क्लास-5

अभी के जमाने में एक स्टूडेंट के लिए कॅरियर गाइडेंस काफी महत्व रखता है. इस एक्जाम से हमें कॅरियर गाइडेंस मिला. वहीं भविष्य में हम अपने इंटेलीजेंस से ऊचांईयो को छू सकते हैं.

वैष्णवी पाठक, क्लास-5

एक्जाम देकर बहुत मजा आया, क्योंकि इसमें पूछे गए सवालों में कुछ कठिन तो कुछ आसान और कुछ प्रश्न तो ऐसे भी रहे जिसने सोचने पर मजबूर कर दिया. इंटेलीजेंस टेस्ट में सभी स्टूडेंट्स की इंटेलिजेंस की अच्छे से परख हुई.

अक्षत सिंह, क्लास -10

मल्टीपल इंटेलीजेंस में हमें अपनी पसंद नापसंद के बारे में बताना था. वहीं दूसरे भाग में पढ़ाई संबंधित प्रश्न पूछे गए. जो काफी अच्छा और यह अलग प्रयास रहा. इससे हम स्टूडेंट्स के पसंद-नापसंद से भी इंटेलिजेंस की परख कर सकेंगे.

हर्षित कुमार, क्लास -12

जागरण समूह की ओर से आयोजित आईआईटी से काफी कुछ सीखने को मिला. इस एक्जाम से सभी स्टूडेंट्स को इंटेलिजेंस के परख के साथ ही कॅरियर गाइडेंस भी मिला.

जीनिशा गोलक्षा, क्लास -7

इस एक्जाम से हमें अपने इंटेलीजेंस की परख के साथ-साथ कॉम्पटीटिव एक्जाम का भी अनुभव मिला. इससे भविष्य में हमें काफी मदद मिलेगी.

अभिषेक, क्लास-8

एक्जाम में कई अलग-अलग विषयों से सवाल पूछे गए. जिसमें सबसे आसान सामान्य ज्ञान एवं सबसे कठिन अंक गणित रहा. एक्जाम से काफी कुछ सिखने को मिला. जैसे किस विषय में और ज्यादा मेहनत करने की जरूरत है. एग्जाम से खुद का आंकलन करने का मौका मिला, पता चला हम किस चीज में कमजोर हैं तथा किसमें मजबूत.

खुशी कुमारी , क्लास -7

पहले कॉम्पटीटिव एक्जाम देने से काफी डर लगता था, पर आईआईटी के एक्जाम से कॉम्पटीटिव एक्जाम के बारे में जानकारी भी मिली और इसका डर भी खत्म हो गया.

रिया झा, क्लास-9

जागरण समूह की ओर से आयोजित आईआईटी के एक्जाम से काफी प्रसन्नता हुई. इससे बच्चों को एक प्लेटफॉर्म मिला जहां वे पढ़ाई के साथ ही अपने इंटेलीजेंस को भी परख सके. इससे भविष्य में बच्चों को अपने कॅरियर के बारे में बड़े फैसले लेने में मदद मिलेगी.

केके मिश्रा, अभिभावक

इस एक्जाम से बच्चों की मानसिक शक्ति पर अच्छा असर पड़ेगा. जिससे बच्चों का कॉम्पटीटिव एक्जाम से डर खत्म हो जाएगा. जो भविष्य में बच्चों के काफी काम आएगा.

किरण कुमार, अभिभावक

एक्जाम में बच्चों से पूछे गए सवालों से बच्चों को इंटेलीजेंस की परख के साथ कॅरियर गाईडेंस भी मिला. इससे बच्चे भविष्य में कोई भी चुनौती के लिए तैयार रहेंगे.

धरम चंद गोलछा, अभिभावक