दुबई (पीटीआई)। दुबई में एक 33 वर्षीय भारतीय को 15 वेबसाइटों को हैक करने के लिए तीन महीने जेल की सजा सुनाई गई है। इसके अलावा उसे डिपोर्ट करने के भी आदेश दिए गए हैं। गल्फ न्यूज ने बताया कि दुबई कोर्ट ऑफ फर्स्ट इंस्टेंस ने सोमवार को भारतीय के खिलाफ वेबसाइटों को हैक करने और लोगों को धमकाने के मामले में फैसला सुनाया। मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि भारतीय की सजा पूरी होने के बाद तुरंत डिपोर्ट कर दिया जाएगा। ऑफिसियल रिकॉर्ड के अनुसार, भारतीय व्यक्ति दुबई में एक मीडिया कंपनी में कंप्यूटर प्रोग्रामर के रूप में काम करता था लेकिन बाद में उसने इस्तीफा दे दिया। रिपोर्ट में बताया गया है कि उसने 4,000 दिरहम (1,080 डॉलर) अपने वेतन से काटे जाने के बाद अपने क्लाइंट वेबसाइटों को हैक करने की धमकी दी थी।

एनएचएम की वेबसाइट हैक कर 2 लाख कर्मचारियों का डेटा किया गायब, साइट पर पाकिस्तान के समर्थन में लिखे नारे

व्हाट्सएप पर भेजे थे मैसेज

कंपनी के मालिक ने कहा, 'दोषी ने कंपनी के एक अन्य प्रोग्रामर को व्हाट्सएप मैसेज भेजे और कहा कि वह क्लाइंट के वेबसाइटों को हैक कर लेगा यदि कंपनी ने उसे उसके वेतन से काटे गए 4,000 दिरहम नहीं लौटाए।' पैसे काटने को लेकर उन्होंने बताया कि दोषी को पहले ही यह सूचित कर दिया गया था कि अगर वह प्रोबेशन अवधि खत्म होने से पहले कंपनी से इस्तीफा देगा तो उसकी सैलरी से कुछ पैसे काट लिए जायेंगे। जांच के बाद, पुलिस ने बताया कि भारतीय व्यक्ति के निजी लैपटॉप पर मिले डेटा ने पुष्टि की कि उसने वेबसाइटों को एक्सेस किया था। हालांकि, बचाव पक्ष ने आरोपों से इनकार किया है।

International News inextlive from World News Desk