न्यूयॉर्क (पीटीआई)। अमेरिका में एक भारतीय मूल के व्यक्ति को मेल फ्रॉड और गबन के मामले में दोषी पाए जाने पर 33 महीने की सजा सुनाई गई है। इसके साथ उसे 17 करोड़ रुपये भुगतान करने का आदेश दिया गया है। यूएस अटॉर्नी डेविड एंडरसन ने बताया कि सैन जोस के 41 वर्षीय दिनेश शंकर को एक मेडिकल डिवाइस कंपनी से गबन के लिए मेल फ्रॉड के मामले में दोषी पाया गया, इस जुर्म के लिए उसे 33 महीने जेल की सजा सुनाई गई है। शंकर की सजा इसी साल से शुरू होगी। मार्च 2013 से जनवरी 2018 तक याचिका में दी जानकरी के अनुसार, शंकर एक मेडिकल डिवाइस कंपनी में कर्मचारी था।

फेक कंपनियों के नाम पर बनाया गलत चालान

जुलाई 2013 से दिसंबर 2017 तक, उसने कंपनी के फाइनेंसियल विभाग को गलत एक्सपेंस रिपोर्ट और झूठे चालान पेश किए, जिसके चलते कंपनी को उसे जरुरत से ज्यादा खर्च देना पड़ता था और इससे कंपनी का काफी नुकसान भी हुआ। बाद में कंपनी को उसके धोखाधड़ी के बारे में पता चला और शंकर ने स्वीकार भी किया कि उसने छह अलग-अलग फर्जी कंपनियों के नाम पर गलत चालान बनाए। जांच पड़ताल के बाद पता चला कि जिन छह कंपनियों के नाम पर चलान बनाये जा रहे थे, वास्तव में ऐसी कोई संस्था थी ही नहीं, शंकर उन्हें अपने हिसाब से कंट्रोल करता था। शंकर ने माना कि उसने कंपनी को अपनी धोखधड़ी से लगभग 2.5 मिलियन अमेरिकी डालर (करीब 17 करोड़) का नुकसान पहुंचाया।

अमेरिका की हिंदू सांसद तुलसी गबार्ड ने कहा, आतंकियों पर कार्रवाई के बिना नहीं होगा भारत-पाक का तनाव कम

अमेरिका ने कहा, भारत के खिलाफ F-16 फाइटर प्लेन इस्तेमाल करने का कारण बताए पाक

International News inextlive from World News Desk