BAREILLY: बच्चों और प्रेग्नेंट लेडी के साथ रेल से जर्नी की तैयारी में हैं, तो सीट की टेंशन छोड़ दीजिए. रेलवे ने टिकट रिजर्वेशन फॉर्म में पांच अहम बदलाव किए हैं. इसमें प्रेग्नेंट लेडीज को लोअर बर्थ, 5 साल से ज्यादा और 12 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए बर्थ लेने या न लेने का विकल्प, वरिष्ठ नागरिकों के लिए रियायत लेने या छोड़ने का विकल्प और बिना एक्स्ट्रा चार्ज के अपग्रेड होने की सुविधा यात्रियों को मिल सकेगी. इनमें आप जो भी सुविधाएं पाना चाहते हैं उसके लिए टिकट रिजर्वेशन फॉर्म में दिए गए संबंधित विकल्प को चुनना होगा.

रेलवे ने सिस्टम किया अपगे्रड

रेलवे अधिकारियों ने बताया कि इन सभी विकल्पों को लागू करते हुए रेलवे ने सॉफ्टवेयर में बदलाव कर लिया गया है. रिजर्वेशन फॉर्म के साथ ही ऑनलाइन टिकट बुकिंग में भी सभी विकल्प जोड़ दिए गए हैं. इन चारों विकल्पों को जोड़ने के लिए रेलवे ने अक्टूबर से ही तैयारी शुरू कर दी थी. अब रेलवे ने सभी विकल्पों को ऑनलाइन और मैन्युअल रिजर्वेशन फॉर्म में जोड़ दिया है. इससे रोजाना हजारों यात्रियों को राहत मिलेगी. क्योंकि, बरेली जंक्शन से गंतव्य स्थान पर रोजाना 30 हजार से अधिक यात्री सफर करते हैं.

यह हैं विकल्प

बच्चों को लेकर - यह कॉलम बच्चों के लिए सीट लेने या नहीं लेने का विकल्प चुनने के लिए है. यह सुविधा अभी केवल ऑनलाइन बुकिंग पर ही मिल रही थी. 5 वर्ष अथवा 5 से ऊपर किन्तु 12 वर्ष से कम बच्चों के लिए स्लीपर सीट रिजर्व कराते हैं, तो कॉलम भरना होगा. यदि हां तो पूरा किराया देना होगा.

प्रेग्नेंट लेडी - यदि आप प्रेग्नेंट लेडी हैं और कोटे के तहत सीट कन्फर्म कराना चाहती हैं, तो कॉलम में भरना होगा. साथ ही रजिस्टर्ड डॉक्टर का प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा.

वरिष्ठ नागरिक - वरिष्ठ नागरिक किराया में रियायत चाहते हैं, तो कॉलम में सही का निशान लगाना होगा. अतिरिक्त प्रभार से बचने के लिए आयु प्रमाण पत्र साथ रखना जरूरी होगा.

अपग्रेड होना - बिना एक्स्ट्रा चार्ज के अपग्रेड होना चाहते तो संबंधित कॉलम में सही का निशान लगाए. यदि इस विकल्प का प्रयोग नहीं किया जाता है, तो पूरे किराए का भुगतान करने वाले यात्रियों को स्वत: की रेलवे अपग्रेड करेगा.

बेडरोल - गरीब रथ एक्सप्रेस की तृतीय श्रेणी एसी या दूरंतो एक्सप्रेस ट्रेन की स्लीपर श्रेणी में यात्रा कर रहे हैं, तो क्या आप बेडरोल चाहते हैं या नहीं. इसका ऑप्शन भी है.

- 200 से अधिक ट्रेनें बरेली जंक्शन से होकर रोजाना गुजरती हैं.

- 30 हजार से अधिक यात्री रोजाना गंतव्य स्थान को जाते हैं.

- 100 से अधिक प्रेग्नेंट लेडी डेली सफर करती हैं.

- 60 वर्ष से ऊपर सफर करने वाली यात्रियों की संख्या 7 हजार से अधिक होती हैं.

- 9 हजार से ज्यादा बच्चे डेली जर्नी करते हैं.

टिकट रिजर्वेशन फॉर्म में कई बदलाव किए गए हैं. डॉक्टर का कॉलम पहले से था. इसके अलावा पांच नए विकल्प जोड़े गए हैं. यात्री को जो भी सुविधाएं चाहिए उसे संबंधित कॉलम में भरना होगा. नई व्यवस्था से यात्रियों को काफी राहत मिलेगी.

एके शर्मा, टिकट सुपरवाइजर, बरेली जंक्शन

National News inextlive from India News Desk