फूड प्राइस के रेट भी गिरे
अगस्‍त में खाने-पीने की चीजों की मंहगाई दर में भी अच्‍छी गिरावट दर्ज की गई है. अगस्‍त में यह दर घटकर 5.15 परसेंट पर आ गई. जबकि जुलाई में खाने-पीने की चीजों की मंहगाई दर 8.43 परसेंट पर थी. महीने दर महीने आधार पर अगस्‍त में फ्यूल-पावर ग्रुप की मंहगाई दर 7.40 से घटकर 4.54 परसेंट हो गई है. इसके अलावा महीने के बेसिस पर देखा जाये तो प्राइमरी आर्टिकल्‍स की मंहगाई दर 6.78 परसेंट से घटकर 3.89 पर आ गई है. अब अगर मैन्‍युफैक्‍चर्ड प्रोडक्‍ट्स की बात की जाये तो इसमें भी मंहगाई दर 3.67 से 3.45 परसेंट हो गई है.

इकोनॉमी में सुधार के संकेत
RBI गवर्नर रघुराम राजन ने कहा है कि मंहगाई दर में उम्‍मीद के मुताबिक कमी आ रही है. रघुराम राजन के अनुसार इस स्थिति को देखकर लगता है कि इकोनॉमी में सुधार जल्‍द ही हो जायेगा. हालांकि उन्‍होंने कहा कि अभी जल्‍दबाजी नहीं करनी चाहिये, काफी कुछ करना बाकी है. वहीं जायफिन के चीफ इकोनॉमिस्‍ट देबोपम चौधरी का कहना है कि थोक मंहगाई दर के आंकड़े अनुमान से बेहतर आये हैं, लेकिन रिटेल मंहगाई दर को लेकर अभी भी दिक्‍कत बरकरार है. उनका मानना है कि थोक मंहगाई दर की बजाये रिटेल मंहगाई दर में कमी आना ज्‍यादा जरूरी है. देबोपम के मुताबिक फ्यूल-पावर ग्रुप की मंहगाई दर के आंकड़े अच्‍छे रहे हैं, और इसकी वजह से ही थोक मंहगाई दर में करीब 1.5 परसेंट की गिरावट देखने को मिली है.

Hindi News from Business News Desk

Business News inextlive from Business News Desk