-एक शख्स से तीन वर्ष तक जमा कराते रहे किस्त

-जब रसीदें मांगी तो पता चला कि बीमा नहीं हुआ

बरेली- बीमा पॉलिसी कराने के बजाय कंपनी में रुपए लगाकर ठगी का मामला सामने आया है. एक शख्स ने बीमा कंपनी के अधिकारी पर भरोसा करके सारी किस्त भी दीं, लेकिन जब रसीदें मांगी तो पता चला कि बीमा तो कराया ही नहीं है. उसके बाद ठग रकम लौटाने की बात कहकर एक साल तक टरकाते रहे. पीडि़त ने एसएसपी ऑफिस शिकायत की, जिसके बाद सैटरडे रात कैंट थाना में ठगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है.

एलआईसी का बनकर आए थे

डिफेंस कॉलोनी कांधरपुर निवासी हरीचरन ने एसएसपी से शिकायत की कि करीब 6 वर्ष पहले भरत सिंह निवासी मुरावान बिथरी चैनुपर, अजयपाल सिंह निवासी कांधरपुर, जयप्रकाश व संदीप सिंह निवासी गाजीपुर उनके आवास पर आए और खुद को एलआईसी के विभिन्न पदों पर तैनात बताया. उन्होंने बीमा पॉलिसी कराने के लिए कहा. भरत सिंह से जान पहचान होने के चलते बीमा पॉलिसी लेने के लिए हां कर दी. उसके बाद प्रति माह एक हजार रुपए देना शुरू कर दिया. कुछ महीनों बाद उन्हें किंग इंफ्रास्टक्चर एंड डेवलपर्स की रसीदें दीं. जब इसको लेकर नाराजगी जताई तो बताया कि यह कंपनी ज्यादा फायदा देगी. उसके बाद दूसरी बीमा पॉलिसी भी 1500 रुपए प्रति महीना की करा ली. इस तरह से दोनों बीमा पॉलिसी में एक लाख 15 हजार रुपए जमा कर दिए. बाद में पता चला कि कंपनी फर्जी है. उसके बाद एक साल से रुपए मांगने पर भी भरत सिंह रुपए वापस नहीं कर रहा है.