क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ: खूंटी सहयोग विलेज में तीन मासूमों की मौत व छह के खिलाफ एफआइआर मामले में राष्ट्रीय बाल संरक्षण आयोग भारत सरकार ने झारखंड के मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी को जांच कर कार्रवाई करने का निर्देश दिया है. यह निर्देश मेंबर यशवंत जैन ने दिया है. कहा गया है कि आरटीआई एक्टिविस्ट दर्श चौधरी ने कोतवाली थाने में तीन मासूमों की मौत का जिम्मेवार छह लोगों को बताया था. इनमें समाज कल्याण विभाग के प्रधान सचिव अमिताभ कौशल, बाल संरक्षण आयोग अध्यक्ष आरती कुजूर, बाल संरक्षण समिति अध्यक्ष रूपा कुमारी, खूंटी अध्यक्ष वीरेश्वर विंधिया व सहयोग विलेज के संचालक मंजीत सिंह शामिल हैं.

क्या है आरोप

प्राथमिकी में कहा गया है कि आरोपित बनाए गए जिम्मेदारों की लापरवाही, अनदेखी व गलती की वजह से मासूम बच्चों की कुपोषण से मौत हो रही है. अपने आवेदन में उक्त अधिकारियों के खिलाफ कानून का उल्लंघन करने, संवैधानिक पद एवं शक्तियों का दुरुपयोग करने, बच्चों का शोषण करने, बच्चों को जबरन कब्जे में रखने और बच्चों की मौत की वजह बनने का आरोप लगाया गया था.