लार में पाए जाने वाले मेडिकेटेड एलिमेंट
ध्‍यान दें कि किसी भी घाव को चाटते समय उसपर मुंह की लार लगाई जाती है। क्‍या आपको पता है कि आपकी लार में कई जरूरी केमिकल्‍स पाए जाते हैं। इन केमिकल्‍स में आपकी चोट को जल्‍द से जल्‍द ठीक करने की जबरदस्‍त ताकत होती है। इसके अलावा आपकी लार में कई जरूरी टिशु फैक्‍टर भी पाए जाते हैं। ये टिशु फैक्‍टर मदद करते हैं आपकी चोट से निकलने वाले खून को रोकने में।

जानिए,कितना हेल्‍दी है घाव चाटना

ये भी करते हैं आपकी मदद
सिर्फ यही नहीं लार में जरूरी प्रोटीन, कुछ खास तरह के एंजाइम्‍स भी पाए जाते हैं, जो पूरी तरह से एंटीबैक्‍टीरियल होते हैं। 2008 में हुई एक स्‍टडी में साइंटिस्‍ट्स ने ये पाया था कि हमारी लार में पाया जाने वाला खास तरह का प्रोटीन हमारी चोटों, जलन और घावों को जल्‍द ठीक करने में काफी मदद करता है। कुल मिलाकर हमारी चोटों और घावों को ठीक करने में हमारी लार बहुत फायदेमंद दवा का काम करती है।

जानिए,कितना हेल्‍दी है घाव चाटना

घाव को चाटने में हो सकते हैं नुकसान भी

हमारे घावों को सही करने में जहां एक ओर लार बहुत फायदेमंद होती है, वहीं इसके कुछ नुकसान भी हो सकते हैं। ऐसे में इन बातों का ध्‍यान जरूर रखना होगा। हां, हालांकि हमारी लार में बहुत से ऐसी फायदेमंद चीजें होती हैं, जो चोटों को जल्‍द ठीक करती हैं। वहीं दूसरी ओर हमारे मुंह के अंदर कुछ नुकसानदेह बैक्‍टीरिया भी पाए जाते हैं जो गहरे घावों पर उलटा असर दिखा सकते हैं। ऐसे में सबसे पहला नुकसान हो सकता है इंफेक्‍शन का। ये नुकसान खासतौर पर उन मरीजों को होता है जिनकी इम्‍युनिटी पावर कम हो चुकी होती है। ऐसे लोग लार से होने वाले इन्‍फेक्‍शन या इन्‍फेक्‍टिव बीमारी से नहीं लड़ पाते। ऐसा खासकर डायबिटीज़ के पेशेंट्स के साथ होता है। इसके अलावा आपके कई घाव ऐसे भी हो सकते हैं जो आपके मुंह से आपके शरीर में जाकर आपको नुकसान पहुंचा सकते हैं।

जानिए,कितना हेल्‍दी है घाव चाटना

जानवरों के लिए तो हर हाल में अच्‍छा, लेकिन आपके लिए नहीं
जानवरों की लार उनके खुद के घावों के लिए बहुत फायदेमंद होती है। खासकर उन जानवरों की लार, जो जंगल में रहते हैं। जंगल में उन्‍हें कोई चोट लगने पर वहां कोई इंसान नहीं होता उसका इलाज करने के लिए। ऐसे में ये जानवर खुद की चोट को चाटकर ही सही कर लेते हैं। आखिर में छोटी चोटों पर तो आपकी लार फायदा कर सकती है, लेकिन ध्‍यान दें कि बड़ी चोटों पर कभी इसका इस्‍तेमाल न करें। ऐसा करने से आपको इन्‍फेक्‍शन ही होगा। कुल मिलाकर छोटी चोटों को तो आप चाटकर सही कर लें, लेकिन बड़ी चोटों में अपने मुंह का इस्‍तेमाल मदद बुलाने के लिए ही करें।
Health News inextlive from Health Desk

inextlive from News Desk