jamshedpur@inext.co.in

JAMSHEDPUR : यदि आपने भी होटल या क्लब में पार्टी दी है तो सचेत हो जाएं. आयकर विभाग ऐसे लोगों को नोटिस भेजने जा रहा है जिन्होंने इस पार्टी या दावत को अपने आयकर रिटर्न में नहीं दिखाया है. विभाग ने शहर के सभी होटल-क्लब को नोटिस दिया है जिसमें पिछले वित्तीय वर्ष 2017-18 में उनके यहां हुई पार्टियों का ब्योरा देने को कहा गया है. यह जानकारी आयकर उपायुक्त रंजीत मधुकर ने दी. उन्होंने कहा कि विभाग ने पहली बार इस सेक्टर के खिलाफ व्यापक अभियान शुरू किया है जिसमें विभाग के अधिकारी सर्वे भी कर चुके हैं. इससे ना केवल होटल-क्लब और दावत देने वालों की आमदनी का पता चलेगा बल्कि इसके माध्यम से सजावट करने वाले, कैटरिंग वाले भी विभाग की नजर में आएंगे.

कम दिखाते हैं सालाना आय

शुक्रवार को संवाददाता सम्मेलन में आयकर आयुक्त ने बताया कि आमतौर पर लोग अपने रिटर्न में इन पार्टियों का जिक्र नहीं करते हैं. यही नहीं होटल-क्लब या छोटे-बड़े समाज, जिनके भवन या परिसर में आए दिन पार्टियां होती हैं वह संस्थाएं भी अपने रिटर्न में इनकी चर्चा नहीं करतीं. बड़े-बड़े होटल व क्लब इस मद में अपनी सालाना आमदनी एक लाख रुपये ही दिखाते हैं.

रिटर्न कम करने वालों की संख्या है कम

जमशेदपुर के आयकर विभाग के आंकड़े पर नजर डालें तो एक करोड़ से 10 करोड़ आयवर्ग में संख्या दो साल में 140 से बढ़कर 165 हो गई है. जमशेदपुर में दो साल में तीन अरबपति, 25 करोड़पति और साढ़े चार हजार लखपति बढ़े. करोड़पतियों की सूची में 25 करदाता बढ़े हैं. पिछले दो साल में आयकर विभाग में कर जमा करने वालों की सूची विभाग ने जारी की थी. एक करोड़ से 10 करोड़ आयवर्ग में दो साल में 140 से बढ़कर 165 हो गई है. जबकि 10 करोड़ से अधिक आय वाले पांच से बढ़कर आठ हो गए. सबसे अधिक कर देने वाले पांच लाख और इससे अधिक 10 लाख आय वर्ग वालों की है. वित्तीय वर्ष 2017-18 में 10,626 फर्म में मात्र 3507 फर्म रिटर्न फाइल की . 2232 कंपनियों में 1446 ने रिटर्न फाइल किया.