- एमएलसी के लिए कर रहे उम्मीदवारी

- आंशकाओं के आधार पर कसा शिकंजा

GORAKHPUR: कुशीनगर-देवरिया स्थानीय निकाय निर्वाचन से उम्मीदवारी कर रहे अजीत शाही को जेल प्रशासन ने तन्हाई में डाल दिया है. जेल प्रशासन को आशंका है वह चुनाव प्रभावित कर सकते हैं. माफिया अजीत शाही पर जेल प्रशासन की इस कार्रवाई पर समर्थकों में खलबली मच गई है. वहीं जेल के बाहर चर्चाओं का बाजार भी गर्म हो गया है.

कैंट का हिस्ट्रीशीटर है अजीत

सहजनवां के पूर्व विधायक के पुत्र की भूमि पर कब्जा के विवाद में अजीत शाही पर पुलिस ने शिकंजा कसा था. कैंट थाना के हिस्ट्रीशीटर, पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत शाही ने एमएलसी के लिए उम्मीदवारी पेश की है. उनके चुनाव मैदान में आने से विरोधी प्रत्याशियों में खलबली मची है. राजनीतिक हल्के से जुड़े लोगों का कहना है कि अजीत शाही की दावेदारी से दूसरे प्रत्याशी परेशान हैं. अजीत शाही के समर्थक उनके लिए वोट मांग रहे हैं. अजीत शाही से परेशान विरोधी खेमे लोग शिकायत दर्ज करा रहे हैं. जेल से चुनाव को प्रभावित करने की आशंका में जेल प्रशासन ने अजीत शाही को अलग कर दिया है.