- जलकल के पास डेली आती हैं कई दर्जन शिकायतें पर सिर्फ 20 फीसदी का ही हो पाता है समाधान

-पेयजल व सीवर की प्रॉब्लम से रोज जूझते हैं लोग, लेकिन नहीं किया जा रहा स्थायी समाधान

varanasi@inext.co.in

VARANASI

शहर में पेयजल की समस्या बरकरार है. सीवर के ओवरफ्लो और चोक होने की प्रॉब्लम अलग से, लेकिन इसकी शिकायत करने पर समाधान होने से रहा. क्योंकि जलकल विभाग की हेल्पलाइन बेकार साबित हो रही है. विभागीय आंकड़ों पर गौर करें तो डेली आने वाली शिकायतों में से महज बीस फीसदी शिकायतों का ही समाधान हो पाता है. अन्य मामले अटके रहते हैं. परेशानी जब हद से ज्यादा फेस करनी पड़ती है तो धरना-प्रदर्शन तक होता है. तमाम पार्षदों ने डीएम, कमिश्नर से लगायत मंत्रियों से भी शिकायत की, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला. इन शिकायतों के स्थायी समाधान के लिए अब तक कोई कवायद नहीं हुई.

मई में बढ़ीं सीवर की शिकायतें

मई महीने में शहर में सीवर प्रॉब्लम की शिकायतों में इजाफा हो गया. कई दिन तो 50 से ज्यादा सीवर से जुड़ी शिकायतें आई, लेकिन तत्काल समाधान महज 20 से 30 तक का ही किया गया. शहर के चौक, कोतवाली, निराला नगर, माधोपुर, चंदुआ छित्तूपुर, बड़ी गैबी, जलालीपुरा, जैतपुरा, वरुणापार एरिया में सिकरौल, विंध्यवासिनी नगर कॉलोनी, पांडेयपुर, हुकुलगंज, खजुरी समेत दो दर्जन मोहल्लों में मई महीने में सीवर ओवरफ्लो या चोक होने की शिकायतें ज्यादा आई.

पानी की समस्या से जूझते हैं लोग

शहर के तमाम मोहल्लों में पेयजल समस्या हमेशा बनी रहती है. इसका कारण जर्जर पाइपलाइनों से पानी की सप्लाई व सीवर क्षतिग्रस्त होने से उसका पानी पाइपलाइन में मिलना है. गंदे पानी के सेवन से बीमार होकर आए दिन लोग अस्पताल पहुंचते हैं. वहीं, चौक एरिया के ऊंचाई वाले मोहल्लों में यह समस्या ज्यादा है. यहां बूस्टर के सहारे घरों तक पानी पहुंचाया जाता है. कई बार बूस्टर के जवाब देने पर प्रॉब्लम और बढ़ जाती है. इसके अलावा पक्का महाल, सोनारपुरा, प्रह्लादघाट, तेलियानाला आदि जगहों पर भी ये समस्या हमेशा बनी रहती है.

इन शिकायतों की भरमार

- घरों तक पानी न पहुंचना

- गंदे पानी की सप्लाई

- पाइपलाइन में लीकेज

- ट्यूबवेलों, मिनी ट्यूबवेलों में खराबी

- सीवर का चोक व ओवरफ्लो होना

एक नजर

40-50

शिकायतें हेल्पलाइन में डेली आती हैं

5-10

शिकायतों का ही हो पाता है समाधान

04

वाटर जोन हैं जलकल के

12

जेई रखते हैं व्यवस्था पर नजर

24

घंटे खुली रहती है हेल्पलाइन

3

कर्मियों की कंट्रोल रूम में ड्यूटी

8935000976

नम्बर है हेल्पलाइन का

जलकल के पास मौजूद मैनपावर और संसाधनों से पब्लिक की प्रॉब्लम को दूर करने का प्रयास किया जाता है. कई समस्याएं ऐसी होती हैं, जिनको दूर करने में टाइम लगता है.

बीके सिंह, महाप्रबंधक, जलकल