patna@inext.co.in

PATNA (10 Nov) : उत्तर बिहार को राजधानी से जोड़ने वाले महात्मा गांधी सेतु की यातायात व्यवस्था शनिवार को सुबह से लेकर देर रात तक चरमराई रही. साढ़े पांच किलोमीटर लंबी पूर्वी लेन की ¨सगल सड़क पर लगी भीषण जाम में सैकड़ों वाहन फंसे रहे. अचानक वाहनों की संख्या में बेतहाशा वृद्धि देख पटना एवं वैशाली जिला की पुलिस हैरान होने के साथ ही परेशान भी रही. हजारों लोग इस जाम में घंटों फंसे रहे. ¨सगल सड़क में कई जगहों पर वाहनों के खराब होने और उसे हटाने के दौरान समस्या और भी गंभीर हो गई. बहुत सारे यात्रियों ने वाहन से उतर कर पैदल ही पुल पार किया. अगले चार दिनों तक सेतु पर ऐसे ही हालात बने रहने की संभावना जताई जा रही है. छठ के बाद गायघाट के पीपा पुल पर वाहनों का परिचालन शुरू होते ही जाम की समस्या का अंत होगा.

अतिरिक्त बल तैनात

यातायात डीएसपी जगदानंद ठाकुर ने बताया कि वाहनों के नियंत्रण को अतिरिक्त पुलिस बल लगाया गया है. छठ को लेकर अचानक वाहनों की संख्या में बढ़ोतरी होने से समस्या गहराई है. उन्होंने कहा कि ¨सगल लेन की दूरी बढ़ जाने तथा इसी मार्ग से वाहनों की आवाजाही होने के कारण जाम लगा है.

बढ़ती गई जाम की समस्या

वैशाली क्षेत्र में गंगा थाना के अध्यक्ष शशिरंजन कुमार दलबल के साथ सेतु पर यातायात व्यवस्था को सुचारू करने के प्रयास में जुटे रहे. दोपहर और शाम में सेतु पर जाम की समस्या अधिक गंभीर हो गई. उन्होंने बताया कि ¨सगल सड़क पर जगह-जगह खराब होकर रुकने वाले वाहनों को क्रेन से निकालने को लेकर भी परेशानी बढ़ी है. इधर, जीरो माइल स्थित यातायात थाना के अध्यक्ष क¨सदर सिंह ने बताया कि सुबह से ही सेतु पर वाहनों का दबाव बना है. पाया संख्या 46 के समीप एक बस के खराब होने तथा उसे निकालने के दौरान जाम लग गया. गायघाट के बैरियर से करीब तीन सौ मीटर उत्तर में नया डायवर्जन बनने से पूर्वी लेन की दूरी बढ़ गई है. इसी पर वाहनों की आवाजाही हो रही है. उपलब्ध यातायात पुलिस कर्मी जगह-जगह मुस्तैद हैं. छठ के बाद ही हालात सामान्य हो सकेगा.

मुसल्लहपुर स्थित कृषि बाजार समिति मंडी में छठ को लेकर फलों की खरीदारी शनिवार को जमकर हुई. प्रदेश के बाहर से फल लेकर आने वाले वाहनों के मंडी में प्रवेश करने से जाम लग गया. सुबह से लेकर शाम तक वाहनों का परिचालन बाधित होता रहा. व्यापारियों ने बताया कि दिन में नो इंट्री होने के कारण खाली होने वाले बड़े वाहन मंडी और शहर से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं.