JAMSHEDPUR: शहर के कई इलाकों में मौजूद सरकारी जमीन के खाली भूखंडों की घेराबंदी कर इस पर कंपोस्ट गड्ढे बनाए जा रहे हैं. ये गड्ढे बनना शुरू हो गए हैं. इससे जमशेदपुर नोटिफाइड एरिया कमिटी (जेएनएसी) सरकारी जमीन को अतिक्रमण से बचाने की जुगत लगा रही है. अगर कभी इन जमीन की प्रशासन को होगी तो पिट तोड़ दिए जाएंगे. स्पेशल ऑफिसर संजय कुमार ने बताया कि शास्त्री नगर, कदमा, बिरसानगर, सोनारी, मोहरदा, बारीडीह, बागुनहातु जैसे इलाकों में खाली पड़े भूखंडों कंपोस्ट गड्ढे बन रहे हैं. सबसे पहले शास्त्री नगर ब्लॉक चार में दस-दस टन क्षमता के तीन बड़े कम्पोस्टिंग पिट बनाने का काम चल रहा है. गीले कचरे को डंप साईट तक जाने से रोकने के लिए जमशेदपुर अधिसूचित क्षेत्र समिति पृथक्कृत कचरा संग्रह के बाद हासिल गीले कचरे को शहर के भिन्न भिन्न हिस्सों में बनने जा रहे कम्पोस्टिंग गढ्डों में डालकर जैविक खाद और वर्मी कम्पोस्ट आदि बनाने की योजना बना रही है. इससे न केवल गीले कचरे का निष्पादन होगा व कम्पोस्ट बिक्री से राजस्व की प्राप्ति होगी बल्कि भूमि को भी अतिक्रमित होने से बचाया जा सकेगा.