लंदन (पीटीआई)। विकीलीक्स के सह संस्थापक जूलियन असांज को लंदन में गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया गया है। वह पिछले सात सालों से लंदन में स्थित साउथ अमेरिकी देश 'इक्वाडोर' के दूतावास में छिपे थे। उन्हें गिरफ्तार तब किया गया, जब इक्वाडोर ने जूलियन को आगे अपने यहां शरण देने से इनकार कर दिया। स्कॉटलैंड यार्ड ने जूलियन की गिरफ्तारी के बारे में जानकरी दी। एक अधिकारी ने बताया कि जमानत शर्तों के उल्लंघन के लिए जून 2012 में ही जूलियन के खिलाफ वारंट जारी किया गया था। बता दें कि 47 वर्षीय ऑस्ट्रेलियाई नागरिक जूलियन पिछले सात वर्षों से इक्वाडोर के दूतावास में अमेरिका के डर से छिपे थे, जहां उन्हें सरकार के सीक्रेट का खुलासा करने के लिए मौत की सजा या यातनाओं का सामना करना पड़ता।

Lok Sabha Election 2019 : जानें कहां से आती है वोटिंग की स्याही, जो मिटती नहीं

Uttar Pradesh Lok Sabha Voting 2019 : जानिए कैसे दिया जाता है वोट, ये है पूरी प्रक्रिया

कोर्ट के सामने किया जायेगा पेश
मेट्रोपॉलिटन पुलिस ने अपने एक बयान में कहा, 'असांज को सेंट्रल लंदन पुलिस स्टेशन ने अपने कस्टडी में ले लिया गया है, फिलहाल उन्हें वही रखा जायेगा और जल्द से जल्द उन्हें वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट में पेश किया जायेगा।' साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि कोर्ट में सरेंडर नहीं किये जाने के चलते वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट ने ही 29 जून, 2012 को उनके खिलाफ अरेस्ट वारंट जारी किया था। बता दें कि सरकार की खुफिया जानकरी लीक करने के लिए अमेरिका समेत दुनिया के कई बड़े देशों ने जूलियन असांज के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया है।

International News inextlive from World News Desk