LUCKNOW: यूपी के औरैया जिला स्थित अछल्दा और पाता रेलवे स्टेशन के बीच बुधवार को कैफियत एक्सप्रेस डंपर से टकराकर दुर्घटनाग्रस्त हो गई। घटना करीब सुबह तड़के 2.52 मिनट की बताई जा रही है। इस घटना में ट्रेन के करीब 10 डिब्बे पटरी से उतर गए। हादसे में करीब 100 से अधिक लोग घायल हैं। जिनमें चार की हालत नाजुक बताई जा रही है। हादसे के पीछे रेलवे स्टाफ की लापरवाही उजागर हो रही है।

औरैया के पुलिस अधीक्षक संजय त्यागी ने बताया कि औरैया जिले के पाटा और अछल्दा रेलवे स्टेशन के बीच पटरी पर पलटे एक बालू भरा डंपर पलट गया। उसी वक्त वहां से कैफियत एक्सप्रेस गुजरी और उससे टकरा गई। आजमगढ़ से दिल्ली आ रही इस ट्रेन के हादसे के शिकार होने के कारण इस रूट से गुजरने वाली 40 रेलगाडिय़ों के रूट बदले गए हैं। इसके अलावा कुछ ट्रेनों का परिचालन कैंसिल कर दिया गया है।

इसलिए टला बड़ा हादसा
कैफियत एक्सप्रेस में जर्मन तकनीक से बने हुए लिंक-हॉफमैन बुश कोच लगे हुए हैं और इसी वजह से इस बड़े हादसे में अपेक्षाकृत कम नुकसान हुआ। ये कोच ऐसी तकनीक से लैस हैं, जिनसे हादसे के बाद ये एक दूसरे के ऊपर नहीं चढ़ते हैं। ये पारंपरिक कोचों की तुलना में ज्यादा हल्के और सुरक्षित होते हैं। घटना के बाद पुलिस दल समेत आला अधिकारियों का दल पहुंचा। राहत-बचाव में जुटे दल ने घायलों को एंबुलेंस  की मदद से अस्पताल भिजवाया।
पटरी से उतरी कैफियत एक्सप्रेस,100 से अधिक घायल,वीडियो में देखें हादसे का मंजर

मेंटीनेंस का चल रहा था कार्य
बताया जा रहा है कि रेलवे कॉरिडोर का काम चल रहा था इसी दौरान डंपर ट्रैक किनारे मिट्टी डाल रहा था। इसी बीच कैफियत एक्सप्रेस आ गई। जिस जगह हादसा हुआ है, वह अत्यंत व्यस्त मार्ग है। ऐसे में मेंटीनेंस कार्य के बीच पटरियों के पास से गुजर रहे वाहनों को लेकर एहतियात न बरतने को लेकर भी सवाल खड़े होने लगे हैं।

पटरी पर लोडर था। इसकी कहीं कोई सूचना नहीं दी गई थी। ट्रेन की रफ्तार में थी ऐसे में इमरजेंसी ब्रेक लगाकर गाड़ी को नियंत्रित करने की कोशिश की गई इसके बावजूद इंजन लोडर से टकरा गया। अगर पहले ही सूचना दे दी गई होती तो ट्रेन की स्पीड धीमे होती और आउटर पर रोक दी जाती, बड़ी दुर्घटना होने से बच जाती। - एसके चौहान, ड्राइवर

पटरी से उतरी कैफियत एक्सप्रेस,100 से अधिक घायल,वीडियो में देखें हादसे का मंजर

औरैया की ट्रेन दुर्घटना काफी दुखद है। हादसे का शिकार लोगों की हर संभव मदद करने के निर्देश दिए गए हैं। -    योगी आदित्यनाथ, सीएम

हादसे के तत्काल बाद राहत-बचाव कार्य शुरू किया गया था। मैं व्यक्तिगत रूप से राहत-बचाव अभियान की निगरानी कर रहा हूं। - सुरेश प्रभु, रेल मंत्री

 

प्रभु ने ली जिम्मेदारी, इस्तीफे की पेशकश
पांच दिन के भीतर दो बड़े रेल हादसों के बीच रेलवे मिनिस्टर सुरेभ प्रभु ने बुधवार को नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। उन्होने हाल ही में हुए रेल हादसों की जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफे की पेशकश की। प्रभु ने बताया कि पीएम ने मुझे इंतजार करने को कहा है। उन्होने कहा कि तीन साल से कम वक्त में मैंने अपना खून-पसीना रेलवे को सुधारने में लगाया।  पीएम चाहते हैं कि रेलवे बेहतर और मॉडर्न बने। लेकिन, हाल के हादसों से मैं बहुत दुखी हूं।

रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष ने दिया इस्तीफा
रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष अशोक मित्तल ने लगातार हो रहे हादसों के बीच इस्तीफा दे दिया। हालांकि उन्होने अपने इस्तीफे का कोई कारण नहीं बताया है। बताया जा रहा है कि अश्विनी लोहानी रेलवे बोर्ड के अगले अध्यक्ष होंगे। लोहानी वर्तमान में एयर इंडिया के सीएमडी हैं।

 

तत्काल सीट 24 घंटे पहले कर सकेंगे बुक, बस चाहिए ये मोबाइल ऐप

थम नहीं रहे हादसे

13 फरवरी 2015: बेंगलुरु-एनार्कुलम इंटरसिटी एक्सप्रेस पटरी से उतर गई। दो कोच में बैठे 10 लोगों की मौत हुई। 154 जख्मी हुए।

20 मार्च 2015: देहरादून-वाराणसी एक्सप्रेस राय बरेली में डिरेल हुई। 58 लोगों की मौत हुई जबकि 150 घायल हुए।

- 25 मई 2015: राउरकेला-जम्मू तवी मुरी एक्सप्रेस यूपी के कौशाम्बी में डिरेल हुई। पांच लोगों की मौत और 50 घायल हुए।

- 4 अगस्त 2015: मध्य प्रदेश के हरदा में कामायनी और जनता एक्सप्रेस डिरेल हुईं। 31 लोगों की मौत हुई जबकि करीब 100 लोग घायल हुए।

- 20 नवंबर 2016: इंदौर-पटना एक्सप्रेस कानपुर में हादसे का शिकार बनी। करीब 150 पैसेंजर्स की मौत हुई। जबकि इतने ही घायल हुए।

- 19 अगस्त 2015: यूपी के खतौली में हादसे का शिकार हुई। करीब 23 लोगों की मौत हुई। 35 घायल हुए।

National News inextlive from India News Desk

National News inextlive from India News Desk