- पोते मंत्री संदीप सिंह के आवास पर ले जाया जा रहा सामान

- नोटिस अवधि के भीतर ही खाली करेंगे बंगला, मई तक का जमा किया किराया

सरकारी बंगला खाली करना शुरू कर दिया
lucknow@inext.co.in
LUCKNOW :
सुप्रीम कोर्ट द्वारा पूर्व मुख्यमंत्रियों के बंगले खाली कराने के आदेश पर गृहमंत्री राजनाथ सिंह के बाद अब राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह ने भी पूर्व मुख्यमंत्री के रूप में राजधानी में मिला सरकारी बंगला खाली करना शुरू कर दिया है. उन्हें दो माल एवेन्यू पर आवास आवंटित था जिसमें वह लगभग 25 साल से रह रहे थे. मंगलवार को उनका कुछ सामान उनके पोते संदीप सिंह के दो तिलक मार्ग स्थित सरकारी आवास पर भेजा गया. संदीप को राज्यमंत्री होने के नाते यह आवास मिला हुआ है.

मई तक का किराया भी कराया जमा
गृह मंत्री राजनाथ सिंह के बाद कल्याण सिंह ने राजस्थान से ही अपने परिवारीजन को आवास खाली करने का निर्देश दिया. साथ ही उन्होंने इसका 31 मई तक का किराया भी उन्होंने जमा करवाया है. परिवारीजन के मुताबिक, 31 मई से पहले ही वह आवास खाली कर देंगे. गौरतलब है कि गृहमंत्री राजनाथ सिंह भी चार कालिदास मार्ग स्थित सरकारी आवास खाली करेंगे. उनका सामान भी लखनऊ में ही गोमतीनगर के विपुल खंड स्थित निजी आवास में शिफ्ट होना शुरू हो गया है. बीजेपी के इन दोनों पूर्व मुख्यमंत्रियों के सरकारी बंगला छोड़ने के फैसले से अन्य दलों के चार पूर्व मुख्यमंत्रियों पर आवास छोड़ने का दबाव बढ़ा है.

अखिलेश की गुजारिश पर विधिक राय ले रही सरकार
बंगला बचाने के लिए पूर्व मुख्यमंत्री मायावती व अखिलेश यादव द्वारा अपनाए फार्मूले कारगर होते नहीं दिख रहे. राज्य संपत्ति अधिकारी योगेश कुमार शुक्ला ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश का हरहाल में पालन किया जाएगा. अखिलेश द्वारा बंगला खाली कराने को दो वर्ष का समय मांगने के सवाल पर शुक्ला ने बताया कि इसका कोई औचित्य नहीं रह गया, फिर भी न्याय विभाग से इस प्रस्ताव पर विधिक राय ली जा रही है. वहीं, मायावती के बंगले के बाहर कांशीराम यादगार विश्राम स्थल का बोर्ड लगवाने के बाद भी सरकार इसे खाली करवाने के मूड में दिख रही है. राज्य संपत्ति विभाग के मुताबिक बसपा की ओर से इस आवास को विश्राम स्थल के लिए आवंटित करने संबंधी कोई आवेदन नहीं किया गया. अगस्त 2016 में ही कांशीराम यादगार विश्राम स्थल के नाम से आवंटित इस आवास का आधा हिस्सा ट्रस्ट के नाम आवंटित करने से मना कर दिया गया था. इसके बाद ही पूरा बंगला यानी 13-ए माल एवेन्यू पूर्व मुख्यमंत्री मायावती को आवंटित किया गया था.

एनडी तिवारी को भी नोटिस तामील
पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी को भी आवास खाली करने का नोटिस तामील किया जा चुका है. राज्य संपत्ति अधिकारी शुक्ला ने बताया कि तिवारी के निजी स्टाफ को नोटिस रिसीव करा दी गई है. गौरतलब है कि पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी बीमार होने की वजह से इन दिनों दिल्ली के एक हॉस्पिटल में एडमिट हैं.