-एटीएस की चौकसी से तीसरी बार नाकाम हुए दहशतगर्द

-दो बार पहले भी शहर में बड़ा ब्लास्ट करने की कोशिश कर चुके हैं आतंकी

-थर्सडे को एटीएस ने चकेरी से पकड़ा हिजबुल मुजाहिद्दीन का मेंबर, मिले कई अहम सुराग

kanpur@inext.co.in

KANPUR: कानपुर दहशतगर्दो के निशाने पर है. एक के बाद एक दहशतगर्द यहां से पकड़े जा रहे हैं. थर्सडे को चकेरी से यूपी एटीएस ने एनआईए के इनपुट पर हिजबुल मुजाहिद्दीन के आतंकी को अरेस्ट कर लिया. एटीएस को जो इनपुट मिले हैं, उससे साफ हो गया है कि कानपुर दहशतगर्दो के निशाने पर है. खुफिया को मिली जानकारी के मुताबिक गणेश चतुर्थी के मौके पर वो कानपुर में सीरियल ब्लास्ट करने की प्लानिंग कर रहा था. लेकिन इससे पहले ही वो दबोच लिया गया. बता दें कि इससे पहले आतंकी दो बार कानपुर में 'खूनी खेल' खेलने की कोशिश कर चुके हैं. जिसमें एक बार वो खुद नाकाम हुए और दूसरी बार एटीएस समेत अन्य जांच एजेंसियों की चौकसी से फेल हो गए.

निशाने पर भीड़ वाले एरिया

एटीएस को जो इनपुट मिले हैं, उसके मुताबिक पकड़े गए आतंकी के पास मंदिर और भीड़ वाले इलाकों के नक्शे मिले हैं. उसका मंसूबा इन इलाकों में सीरियल ब्लास्ट करने का था. वह एयरपोर्ट के पास किराये के मकान पर रह रहा था. उसको अक्सर एयरपोर्ट और उससे जुड़े एयरफोर्स मुख्यालय के आसपास चहलकदमी करते हुए देखा जाता था. इससे जांच एजेंसियों का यह भी मानना है कि उसके निशाने में एयरपोर्ट भी था. तभी वह एयरपोर्ट के आसपास चहलकदमी कर रेकी करने की कोशिश करता था. इसके अलावा कई अहम जानकारियां एटीएस को मिली हैं.

17 जून को हुआ था ब्लास्ट

कानपुर में तीन साल पहले 17 जून को रमजान शुरू होने के पहले कुलीबाजार की फीते वाली गली में जबरदस्त ब्लास्ट हुआ था. जिसमें तीन मकान ढह गए थे. इसमें दो लोगों की मौत हो गई थी. एटीएस समेत अन्य जांच एजेंसियों को वहां पर बारूद मिला था. जांच में यह भी सामने आया था कि मकान में बारूद को डंप किया जा रहा था. लेकिन गड़बड़ी की वजह से वहां पर विस्फोट हुआ था. इसके एक साल बाद दो साल पहले ईद की पूर्व संध्या में पुलिस को जाजमऊ से एक कार से डेटोनेटर का जखीरा मिला था. अब मोहर्रम और गणेश महोत्सव के पहले हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी शहर से पकड़ा गया है. आतंकी फेस्टिवल में ही 'खूनी खेल' खेलने की फिराक है. एटीएस और एनआईए के सक्रिय होने से दहशतगर्द एक बार फिर नाकाम हो गए.

जाजमऊ बना 'सेफ' जोन

एटीएस की एक खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक शहर का जाजमऊ इलाका आतंकियों के लिए सेफ जोन बनता जा रहा है. करीब एक साल पहले एटीएस ने जाजमऊ और उसके आसपास एरिया से छह आतंकियों को पकड़ा था. इन आतंकियों के एक साथी को एटीएस ने लखनऊ में मुठभेड़ में मार गिराया था, जबकि अन्य को यहां से पकड़ा गया था. इन आतंकियों ने मध्यप्रदेश में ट्रेन में ब्लास्ट किया था. इन आतंकियों का लखनऊ में प्रधानमंत्री की रैली में विस्फोट करने का इरादा था. अब जाजमऊ से एक और आतंकी पकड़ा गया है. जाजमऊ से ही डेटोनेटर से भरी कार मिली थी. लखनऊ में डीजीपी ओपी सिंह ने बताया कि यूपी एटीएस के एडिशनल एसपी दिनेश यादव, डिप्टी एसपी दिनेश पुरी और उनकी टीम ने कानपुर के चकेरी स्थित शिवनगर से कश्मीर में ट्रेनिंग कर चुके असम के होजाई निवासी हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकी कमरउज्जमा उर्फ डॉ. हुरैरा उर्फ कमरुद्दीन को अरेस्ट किया है.