- ऑटो, टेपों के नए परमिट भी नहीं मिलेंगे, ई-रिक्शों का रूट भी किया जाएगा निर्धारित

- सिटी के ट्रैफिक सिस्टम को सुधारने के लिए आरटीए की मीटिंग में लिया बड़ा फैसला

>

kanpur। सिटी में जगह-जगह जाम का कारण बन रहे ई-रिक्शा के नए परमिट पर बैन लगा दिया गया है। यहीं नहीं ऑटो व टेंपो के नए परमिट भी नहीं मिलेंगे। आरटीए की मीटिंग में कमिश्नर ने इस सभी फैसलों को मंजूरी दे दी। यह फैसला कानपुराइट्स को जाम से रिलीफ देने के लिए लिया गया है। अब रोड पर ई-रिक्शा की अराजकता पर भी अंकुश लगाने की तैयारी शुरू हो गई है। गैर परमिट वाले ई- रिक्शों पर सख्ती भी होगी और पकड़े जाने पर उन्हें स्क्रैप कर दिया जाएगा।

ई-रिक्शा के रूट तय होंगे

आरटीओ के रिकार्ड के मुताबिक शहर में 10 हजार ई-रिक्शा सड़क पर दौड़ रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ करीब 10 हजार गैर परमिट वाले रिक्शा भी चल रहें हैं। इतनी तादाद में ई-रिक्शा होने से सड़क पर इनकी अराजकता भी दिखती है। जिससे आए दिन मेन रोड़्स व चौराहों पर जाम लगता रहता है। आरटीओ संजय सिंह के मुताबिक सिटी के कुछ रूटों व इलाकों में ई-रिक्शा की संख्या बहुत ज्यादा है। जिससे वहां जाम की समस्या खत्म नहीं होती है। इस समस्या पर अब ई-रिक्शों का भी रूट बनाने का प्लान चल रहा है। गैर परमिट वाले ई-रिक्शों के बारे में आरटीओ का कहना है कि परमिट न होने पर ये रिक्शे पकड़े जाने पर स्क्रैप कर ि1दए जाएंगे।

तो स्कूल प्रशासन होगा जिम्मेदार

आरटीए की बैठक में प्राइवेट वाहनों में स्कूली बच्चे ढोने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के आदेश कमिश्नर ने दिए हैं। उन्होंने प्राइवेट वाहनों में स्कूली बच्चे ढोने व दुर्घटना होने पर स्कूल संचालक को जिम्मेदारी तय करने का आदेश दिया। साथ ही स्कूल प्रशासन के खिलाफ कार्रवाई करने के आदेश दिए हैं।

यहां लगता अधिक जाम

परेड चौराहा, बड़ा चौराहा, कल्याणपुर रेलवे क्रासिंग

रावतपुर रेलवे क्रासिंग, पांच नंबर गुमटी, फजलगंज

जरीब चौकी, टाटमिल चौराहा, नरौना चौराहा, मालरोड

फूलबाग चौराहा, नई सड़क, मेस्टन रोड, बिरहाना रोड