- कैब्रिंज यूनिवर्सिटी के सेंटर फॉर रिस्क स्टडीज नामी लॉयड मैगजीन के साथ देश के 10 शहरों को लेकर जारी की रिपोर्ट

- कानपुर की ग्लोबल रिस्क इंडेक्स में रैकिंग 155, देश में 8 नंबर पर

- साल 2015-2025 तक कानपुर की जीडीपी ग्रोथ के 7.27 बिलियन डॉलर पर खतरा

ankit.shukla@inext.co.in

KANPUR: देश के प्रमुख औद्योगिक शहरों में शुमार अपने कानपुर की इकोनॉमी पर आने वाले 10 सालों में भारी खतरा मंडरा रहा है. यह बात हम नहीं कर रहे हैं बल्कि मशहूर मार्केट मैगजीन और नामी कैंब्रिज सेंटर फॉर रिस्क स्टडीज ने यह रिपोर्ट जारी की है. तीन दिन पहले जारी लॉयड सिटी रिस्क इंडेक्स में देश के 10 शहरों को शुमार किया गया है जिसमें कानपुर का नाम हैदराबाद और बेंगलुरू जैसे शहरों से ऊपर 8वें स्थान पर है. इस रिपोर्ट के मुताबिक देश में आने वाले 10 सालों में 180 बिलियन डॉलर की जीडीपी ग्रोथ पर रिस्क बताया है जो इन 10 शहरों से होगी, उन पर 18 वजहों से खतरा है. जिसमें आतंकवाद भी शुमार है. इस 180 बिलियन डॉलर में कानपुर की 7.27 बिलियन डॉलर की हिस्सेदारी है, जो रिस्क पर होगी.

लॉयड सिटी रिस्क इंडेक्स में इंडिया के 10 शहर

नामी मार्केट मैगजीन लॉयड और कैंब्रिज यूनिवर्सिटी के कैंब्रिज सेंटर फॉर रिस्क स्टडीज की ओर से इस रिस्क इंडेक्स को तैयार करने में 6 साल का वक्त लगा. इस इंडेक्स में विश्व भर के 301 शहरों को शामिल किया गया है. इन शहरों की इकोनॉमी और जीडीपी ग्रोथ पर 18 तरह के खतरे बताए गए हैं. इस रिस्क इंडेक्स में जीडीपी ग्रोथ पर जो 18 खतरे बताए गए हैं उन्हें तीन कैटेगरीज में बांटा गया है. जिसमें इमर्जिग थ्रेट्स जैसे कि स्टॉक मार्केट क्रैश और ग्लोबल आर्थिक मंदी जैसे फैक्टर शामिल हैं. इसके अलावा मैनमेड थ्रेट फैक्टर्स जैसे आतंकवाद, साइबर अटैक शामिल है और नैचुरल थ्रेट जैसे भूकंप, बाढ़ आदि शामिल हैं.

रिस्क इंडेक्स को इस तरह समझे

कैंब्रिज सेंटर फॉर रिस्क स्टडीज और लॉयड मैगजीन ने इस इंडेक्स को 6 साल के रिसर्च के बाद जारी किया है. जिसमें हर शहर में आने वाले 10 सालों में होने वाली इकोनॉमिक ग्रोथ कितनी हो सकती है और इन पर कितने तरह के खतरे हैं, इस पर रिसर्च की गई है. इस लिस्ट में भारत के 10 शहरों में शुमार कानपुर की साल 2015 से 2025 के बीच ग्रोथ और देश की जीडीपी में उसके योगदान का कैलकुलेशन भी किया गया है. इस रिपोर्ट के मुताबिक इन 10 सालों में कानपुर का औसत जीडीपी ग्रोथ रेट 8.28 फीसदी रहेगा साथ ही औसत वार्षिक सकल घरेलू उत्पाद 59.62 बिलियन डॉलर के करीब रहेगा. जिसमें से जीडीपी एट रिस्क 7.27 बिलियन डॉलर का हिस्सा होगा. जो शहर की कुल सालाना जीडीपी का 12.20 फीसदी हिस्सा होगा. ग्लोबल रैकिंग के हिसाब से कानपुर को 155वां स्थान मिला है.

लायड सिटी रिस्क इडेक्स में भारतीय शहरों में कितना दांव पर (सभी आंकड़े बिलियन डॉलर )

मुंबई- 47.38

दिल्ली- 44.02

कोलकाता- 23.40

अहमदाबाद- 14.01

पुणे- 12.89

चेन्नई- 9.55

सूरत- 8.09

कानपुर- 7.27

हैदराबाद- 6.86

बेंगलुरू- 6.32

-------------------

कानपुर में इन खतरों से इतनी ग्रोथ दांव पर

(बिलियन डॉलर में )

बाढ़- 1.74

महामारी- 1.66

मार्केट क्रैश- 0.88

ऑयल प्राइज स्टॉक- 0.87

आतंकवाद- 0.65

साइबर अटैक- 0.44

पॉवर कट- 0.28

संप्रभुता संबंधी खतरे- 0.24

सूखा- 0.24

सोलर स्ट्रॉम- 0.10

तूफान- 0.07

संयंत्र से फैलने वाली महामारी- 0.06

गर्मी- 0.03

भूकंप- 0.03

स्त्रोत - सभी आंकड़े कैब्रिंज सेंटर फॉर रिस्क स्टडीज और लॉयड के सिटी रिस्क इंडेक्स की रिपोर्ट से है.