लोगों के चेहरों पर एक ही भाव दिख रहा था कि वाकई कोशिश की जाए तो सिस्टम में परिवर्तन की सफल कोशिश हो सकती है। लोगों को करप्शन के खिलाफ फाइट करने वाले आम लोग पसंद आ रहे हैं। उधर दिल्ली में केजरीवाल के शपथ गृहण के बाद सिटी में आप पार्टी कार्यकताओं ने अपने कार्यालय में एकत्र होकर एक-दूसरे को मुबारकबाद दी और मिठाई बांटी। बाद में जुलूस भी निकाला गया।

क्यों पसंद आ रहा है ये चेंज

उधर आम कानपुराइट्स का इस चेंज के बारे में क्या ख्याल है। वो भी क्यों इस परिवर्तन को पसंद करते हैंहमने जाना उनसे ही

स्वतंत्र भारत के इतिहास मे पहली बार किसी नेता ने समग्र व्यवस्था परिवर्तन की सार्थक पहल की है एवं स्वराज एवँ सर्वोदय को स्थापित करने का प्रयास किया है ।
-प्रवीण द्विवेदी

वो करप्शन के अगेंस्ट हैं। वो एक मैंगो मैन, यानि कि आम आदमी हैं। यूथ के लिए केजरीवाल एक यूथ लीडर की तरह हैं। उम्मीद है वो कुछ सालों में देश के प्रधानमंत्री बनेंगे।
-राहुल कुमार सिंह

क्योंकि यहां सिर्फ बाबुओं का राज चलता है। जनता का नहीं, यहां कोई काम बिना रिश्वत दिए नहीं होता है।
-मोहम्मद नदीम

कयोंकि हमलोगों को यहां अपने प्रदेश में भी मिस्टर केजरीवाल जैसे चीफ मिनिस्टर की सख्त जरूरत है।
-स्नेहा दुबे

उनमें एक आदमी की छवि दिखाई दे रही है जो ईमानदारी और सच्चाई की राह पर चलना सिखा सकता है।
-अभिषेक शुक्ला

अगर पढ़ा लिखा आदमी ही कुछ खास नहीं सोचेगा तो बाकी बेचारों का मार्गदर्शन कौन करेगा।
-गुरजीत सिंह

अरविंद जैसे नेता कि आज देश के हर स्टेट को जरूरत है। उनका और टीम का शपथ गृहण एक बड़े परिवर्तन का संकेत था।
-विमल सिंह

क्योंकि कानपुर में हर विभाग में फैली भ्रष्टाचार की गंदगी की सफाई सिर्फ झाड़ू ही कर सकती है।
-चित्रेश गुप्ता

क्योंकि अब देश में राजनीति की परिभाषा बदल रही है। इसलिए आम आदमी का पर्याय बनी पार्टी और उसके लीडर को हम पसंद करते हैं।
-प्रखर पांडे

इस पार्टी के नेताओं ने पब्लिक के बीच हमेशा रहकर आम लोगों की समस्या को करीब से समझा, वो इसी से गुजरे। इसलिए लोगों के दिलों में बस गए हैं।
-सूरज सिंह