कानपुर। लिटिल मास्टर के नाम से मशहूर भारत के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज सुनील गावस्कर ने कपिल देव और हार्दिक पांड्या की तुलना करने को बकवास करार दिया। गावस्कर ने 'आज तक' के एक प्रोग्राम में यह बयान दिया है। 69 साल के इस पूर्व खिलाड़ी का कहना है, कपिल जैसे खिलाड़ी 100 साल में एक बार पैदा होते हैं। उनकी तुलना किसी के साथ नहीं की जा सकती। कपिल न सिर्फ एक जनरेशन के बल्कि शताब्दी में एक बार पैदा हाले वाले क्रिकेटरों सचिन तेंदुलकर और डॉन ब्रेडमैन के बराबर हैं। आपको बता दें, हार्दिक पांड्या पिछले दो साल से जब से भारतीय टीम से जुड़े हैं उनका प्रदर्शन लगातार सुधरता गया। हालांकि कभी-कभी वह अपनी क्षमता के मुताबिक परफॉर्म नहीं कर पाते। फिर भी लोग उन्हें अगला कपिल देव बुलाने लगे हैं।
देखें पांड्या और कपिल देव के शुरुआती दो साल का टेस्ट करियर,आंकड़ों में जानें कौन-किससे आगे
दो साल से टीम का हिस्सा हैं पांड्या
24 साल के युवा क्रिकेटर हार्दिक पांड्या काफी प्रतिभाशाली खिलाड़ी हैं। यही वजह है कि पिछले दो साल से हर फॉर्मेट में वह टीम इंडिया के प्लेइंग इलेवन का हिस्सा रहे हैं। न सिर्फ गेंदबाज बल्कि बल्लेबाजी में भी पांड्या का बल्ला जमकर बोलता है। यही वजह है कि उन्हें अगला कपिल देव कहा जाने लगा, हालांकि गावस्कर जैसे कई दिग्गज खिलाड़ी कपिल के साथ पांड्या की तुलना करना सही नहीं मानते। मगर मुंहजबानी से अलग आंकड़ों की कहानी देखें, तो हकीकत सामने आ जाती है।
देखें पांड्या और कपिल देव के शुरुआती दो साल का टेस्ट करियर,आंकड़ों में जानें कौन-किससे आगे
बल्लेबाजी में दोनों खिलाड़ियों का प्रदर्शन
ईएसपीएन क्रिकइन्फो के डेटा के मुताबिक, पांड्या को अपना अंतरराष्ट्रीय करियर शुरु किए अभी दो साल ही हुए हैं। ऐसे में अगर कपिल देव के शुरुआती दो साल के आंकड़े देखें तो यह काफी रोचक हैं। पांड्या ने अभी तक कुल 12 टेस्ट पारियां खेली हैं जिसमें उन्होंने 35.08 की औसत से 421 रन बनाए हैं। इसमें एक शतक और तीन अर्धशतक शामिल हैं। वहीं कपिल देव की शुरुआत की 12 टेस्ट पारियों पर नजर डालें तो इस महान आलराउंडर के नाम 48.80 की औसत से 488 रन दर्ज हैं यानी कपिल, पांड्या से सिर्फ 47 रन आगे हैं। वहीं 1 शतक और 3 अर्धशतक तो दोनों के बराबर हैं।

गेंदबाजी में कौन है आगे
टेस्ट में बॉलिंग की बात करें तो, पांड्या ने 14 पारियों में गेंदबाजी की है जिसमें सात विकेट उन्होंने चटकाए हैं। वहीं कपिल देव ने इतनी ही पारियों में 23 विकेट हासिल किए थे। यानी कि गेंदबाजी में पांड्या पूर्व भारतीय खिलाड़ी से काफी पीछे हैं।

बल्लेबाज न बना पाए सेंचुरी इसलिए गेंदबाज ने जानबूझकर गेंद बाउंड्री पार फेंक दी

अनुष्का के बगल में बैठकर जा रहे थे पांड्या, कोहली ने खींच ली फोटो

Cricket News inextlive from Cricket News Desk