-इंटर में सफलता के बाद क्वॉलीफाई किया जेईई मेंस, अब जेईई एडवांस में प्रयागराज से सेकंड टॉपर

-एनसीआर में इंजीनियर हैं पिता आरएस वर्मा, बेटे ने ऑल इंडिया में हासिल की 1800वीं रैंक

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ: सूबेदारगंज रेलवे कॉलोनी में रहने वाले कार्तिक वर्मा ने प्रयागराज का नाम रोशन करने का काम किया है। इंटर में सफलता के बाद उन्होंने जेईई मेंस क्वॉलीफाई किया और अब जेईई एडवांस में प्रयागराज से सेकंड टॉपर बनते हुए सक्सेस की हैट्रिक जमा दी है। कार्तिक ने शुक्रवार को घोषित हुए जेईई एडवांस के रिजल्ट में ऑल इंडिया लेवल पर 1800वीं रैंक की। कार्तिक ने इसी साल सिविल लाइंस स्थित ब्वायज हाईस्कूल से इंटर में 98.5 अंक हासिल किया था। उनके पिता आरएस वर्मा एनसीआर रेलवे में इंजीनियर हैं।

कम्प्यूटर इंजीनियर बनना लक्ष्य

कार्तिक की परवरिश में ही इंजीनियरिंग का खून दौड़ रहा है। इनके पिता आरएस वर्मा रेलवे में इंजीनियर हैं। कार्तिक की दोनों बहनें भी इंजीनियरिंग फील्ड में हैं। उनकी सबसे बड़ी बहन अंशु वर्मा यूएस में कम्प्यूटर साइंस में एमएस कर रही हैं। वहीं दूसरे नंबर की बहन वैशाली वर्मा दिल्ली में कम्प्यूटर साइंस में इंजीनियरिंग करके प्राइवेट सेक्टर में कम्प्यूटर इंजीनियर के पद पर कार्यरत हैं। अपने सेलेक्शन पर खुशी जाहिर करते हुए कार्तिक वर्मा ने बताया कि ब्वायज हाई स्कूल में हाई स्कूल की पढ़ाई के दौरान ही तभी से पिताजी का सपना था कि मैं भी प्रतिष्ठित जेईई एडवांस के जरिए इंजीनियरिंग की फील्ड में जाऊं। उन्होंने बताया कि पिताजी का एक सपना साकार हो गया है। अब मेरा लक्ष्य सर्वश्रेष्ठ कम्प्यूटर इंजीनियर बनना है।

सेल्फ स्टडी पर दिया जोर

जेईई एडवांस में प्रयागराज के सेकंड टॉपर कार्तिक वर्मा ने हाईस्कूल की परीक्षा में सफल होने के बाद से ही जेईई मेंस की तैयारी करनी शुरू कर दी थी। उन्होंने बताया कि मैंने किसी कोचिंग के बजाए सेल्फ स्टडी पर ही अपना पूरा फोकस किया था। प्रतिदिन चार से पांच घंटे लगातार अध्ययन करता था। उन्होंने बताया कि मेरी बड़ी बहन यूएस में कम्प्यूटर साइंस में एमएस कर रही हैं। जब उन्हें सेलेक्शन का पता चला तो सबसे पहले फोन करके बधाई दी।