860

लोगों का कोटा मिला था प्रयागराज को

705

लोगों ने ही किया हज पर जाने के लिए आवेदन

02

लाख रुपये जमा कराये गये हैं प्रत्येक से

2900

तक पहुंचे गई थी लास्ट इयर वेटिंग

250

ही रह गयी इस साल वेटिंग

18

फीसदी जीएसटी लगती थी पहले

05

फीसदी ही देना है अब जीएसटी

इस बार नही हुई लाटरी, पूरे प्रदेश में कम रही आवेदनों की संख्या

PRAYAGRAJ: ताज्जुब होगा कि इस बार प्रयागराज में हज यात्रियों का चुनाव लाटरी द्वारा नही हुआ। आरक्षित सीटों के मुकाबले आवेदकों की संख्या ही काफी कम रही। बता दें कि जिले में 860 सीटों के होने के बावजूद कुल 705 लोगों ने आवेदन किया है। यह संख्या काफी है। जिससे खाली सीटों पर हज यात्रा पर जाने वालों को अंतिम समय पर मौका मिल सकता है। पूरे प्रदेश में लगभग ऐसे ही हालात रहे हैं। कई जिलों में लाटरी नही निकाली गई क्योंकि कुल सीटों के मुकाबले काफी कम लोगों ने फार्म भरा है।

दस गुना कम हो गई वेटिंग

अचानक हज यात्रियों की संख्या कम होने का बड़ा कारण तो सामने नही आया है लेकिन जानकार महंगाई को इसका रीजन मान रहे हैं। उनका कहना है कि यात्रा का पैकेज काफी अधिक हो गया है। लोगों को अफोर्ड करने में दिक्कत आ रही है। पूरे प्रदेश में पिछले साल 2800 से 2900 वेटिंग थी लेकिन इस साल 250 ही पहुंची है। यह स्थिति उन लोगों के लिए बेहतर है जो लास्ट आवर्स में जाने की प्लानिंग करते हैं।

जीएसटी कम करने का पड़ेगा प्रभाव

इस साल सरकार ने हज यात्रा पर लगने वाली जीएसटी को 18 से घटाकर 5 फीसदी कर दिया है। इससे इस साल के पैकेज पर कम से कम दस हजार की कमी हो सकती है। फिलहाल हज यात्रा की पहली किस्त दो लाख एक हजार रुपए जमा हो चुकी है और अगली किस्त मई-जून के लास्ट में डिपाजिट होगी। यही कारण है कि हज कमेटी से आथराइज्ड तमाम कमेटियों ने ट्रेनिंग कार्यक्रम शुरू कर दिए हैं जिसमें हज यात्रियों को यात्रा का प्रशिक्षण देने के साथ टीकाकरण भी किया जा रहा है।

हज यात्रियों की दूसरा ट्रेनिंग कार्यक्रम 28 अप्रैल को करेली के पालकी गेस्ट में आयोजित किया जाएगा। जिसमें यात्रियों की तमाम समस्याओं के निराकरण करने का प्रयास होगा। जरूरतमंद यात्री हमारी संस्था की हेल्पलाइन 9936226971 और 9598566465 पर भी संपर्क कर सकते हैं।

हाजी मोईन अहमद खान,

सेक्रेटरी, खुद्दामाने हज कमेटी प्रयागराज