-सिक्योरिटी कंपनी के गार्ड ने तीन लोगों पर लगाया आरोप

-डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल में एडमिट, नकदी व मोबाइल भी लूटा

bareilly@inext.co.in
BAREILLY: पीलीभीत बाईपास से सिक्योरिटी कंपनी के गार्ड का कार सवारों ने अपहरण कर लिया. अपहरण करने के बाद उसके सिर व हाथ पर तलवार से हमला किया और उसे बड़ा बाईपास पर गुलडि़या के पास फेंक दिया. गार्ड ने रिश्तेदार व उसके दो साथियों पर हमला करने और लूटपाट का भी आरोप लगाया है. उसे डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया है, जहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई है. पुलिस ने तहरीर के आधार पर अपहरण और हत्या के प्रयास की धाराओं में एफआईआर दर्ज कर ली है.

पता पूछने के बहाने कार में खींचा

गजेंद्र पाल पुत्र राम विलास मूलरूप से करकौल जैतीपुर शाहजहांपुर का रहने वाला है. वह सीएमएस कंपनी की वैन में सिक्योरिटी गार्ड है. वह गोपाल नगर बारादरी में किराये पर रहता है. गजेंद्र पाल ने बताया कि वेडनसडे शाम को करीब साढ़े 7 बजे वह ड्यूटी करके घर लौटा था. जब वह संजय नगर तिराहा पर था कि तभी ईको कार आकर रुकी और उससे संजय नगर का रास्ता पूछा. जैसे ही उसने रास्ता बताया तो उसे कार में डाल लिया. जब उसने 100 नंबर पर कॉल करने की कोशिश की तो उसका मोबाइल छीन लिया और उसके पास रखे 5,720 रुपए भी छीन लिए. जब उसने विरोध किया तो उस पर तलवार से हमला कर दिया, उसके बाद उसे होश नहीं रहा. जब उसे होश आया तो वह डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल में एडमिट था लेकिन यहां से भी उसके कपड़े गायब हो गए.

भतीजी के पति पर लगाया आरोप

अपहरण करने वालों ने उसे बड़ा बाईपास के पास गुलडि़या इज्जतनगर में फेंक दिया था. यूपी 100 की पीआरवी ने उसे डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल में एडमिट कराया. बताया जा रहा है कि सूचना पर उसके परिजन पहुंचे और जब एफआईआर दर्ज कराने गए तो बारादरी और इज्जतनगर पुलिस ने सीमा विवाद के चलते एफआईआर नहीं दर्ज की. हालांकि जब मामला अधिकारियों तक पहुंचा तो बारादरी पुलिस ने हॉस्पिटल में जाकर पूछताछ की. उसने अपनी भतीजी मीनू के पति कृपाल निवासी मौर्या चक्की बारादरी और उसके दो रिश्तेदार चाहड़पुर फरीदपुर निवासी सुरजीत और सियाराम पर अपहरण कर हत्या की कोशिश का आरोप लगाया. वह पहले मीनू के मकान में ही रहता था लेकिन मीनू का पति से विवाद हो गया था, जिसको लेकर रंजिश चल रही थी.