कुआलालंपुर (एएफपी)। मलेशिया के सबसे बेहतरीन क्रिकेट स्टेडियमों में शुमार किनरारा ओवल को अब बंद नहीं किया जाएगा। ये मैदान सचिन तेंदुलकर के एक शानदार शतक का गवाह रहा है। शुक्रवार को मलेशियाई सरकार ने इस स्टेडियम के बंद होने की सभी अटकलों पर विराम लगा दिया। किनरारा ओवल का निर्माण 2003 में हुआ था। यहां पर कई वनडे मैच खेले गए जिसमें इंडिया, ऑस्ट्रेलिया और वेस्टइंडीज जैसी बड़ी-बड़ी टीमों ने हिस्सा लिया। इसके अलावा यहां अंडर-19 वर्ल्ड कप के मैच भी खेले जा चुके हैं।

यहां कुछ और बनाने का था प्लाॅन

कुआलालंपुर में स्थित किनरारा स्टेडियम का अधिकार अभी तक मलेशिया क्रिकेट संघ के पास था। मगर उनकी लीज अक्टूबर में खत्म हो गई। ऐसे में इस मैदान के मालिकाना हक वाली कंपनी ने क्रिकेट संघ को मैदान छोड़ने के लिए कहा था ताकि यहां नया कंस्ट्रक्शन किया जा सके। ये मामला पिछले कई महीनों से लटका हुआ था। मगर शुक्रवार को मलेशिया सरकार की कैबिनेट मीटिंग में यह फैसला लिया गया कि, स्टेडियम जैसा है वैसा ही बना रहेगा और यहां पहले की तरह ही क्रिकेट मैच खेले जाएंगे।

क्रिकेट ग्राउंड का बचाना ज्यादा जरूरी
मलेशिया के खेल मंत्री सैयद सादिक ने कहा, 'कैबिनेट की नजर में कमर्शियल डेवलेपमेंट से ज्यादा क्रिकेट ग्राउंड का बचाना महत्वपूर्ण है।' बताते चलें मलेशियाई सरकार ने ये फैसला इसलिए भी किया ताकि वह अपने देश में क्रिकेट को जिंदा रख सकें। दरअसल मलेशियाई लोग क्रिकेट से ज्यादा अन्य खेलों में दिलचस्पी रखते हैं। उन्हें फुटबाॅल और बैडमिंटन ज्यादा पसंद है।

सचिन ने यहां बनाए थे 141 रन

क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर के लिए किनरारा स्टेडियम काफी खास है। सचिन के बल्ले से निकले 100 शतकों में एक शतक का गवाह ये मैदान भी है। साल 2006 में भारत ने वेस्टइंडीज के खिलाफ यहां एक वनडे खेला था। जिसमें सचिन ने विंडीज गेंदबाजों की खूब धुनाई करते हुए 141 रन की पारी खेली थी।

पुलवामा आतंकी हमले से दुखी विराट कोहली ने लिया ये बड़ा फैसला

Cricket News inextlive from Cricket News Desk