- आरोपी की गिरफ्तारी को लेकर पुलिस ने की टीम गठित

देहरादून, कमेटी के नाम पर फर्जी रजिस्ट्रेशन कराकर सैकड़ों लोगों से लाखों ठगी करने का मामला सामने आया है. थाना नेहरू कॉलोनी पुलिस ने चार लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कर आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर जांच शुरू कर दी है.

89 लाख 36 हजार की ठगी

पुलिस ने बताया कि वादी रमा देवी ने तहरीर दी कि अभिषेक गर्ग, सरिता गर्ग, अंकित, श्रवण कुमार ने कमेटी के नाम पर कई लोगों से करीब 89 लाख 36 हजार रुपए इकट्ठा किये थे. पीडि़ता ने पुलिस को बताया कि अभिषेक गर्ग ने दीपनगर में सांई नाम से कंपनी खोली थी. जब अभिषेक से संपर्क किया गया तो वह पैसे देने के नाम पर टालमटोल करने लगा. जब अभिषेक के ऑफिस पहुंचे तो उसने आंध्रा बैंक के चार चेक 2 लाख 56 हजार, 1 लाख 50 हजार, 3 लाख और एक 70 हजार के दिए, लेकिन दिए हुए चेक बाउंस हो गए. जब अभिषेक के ऑफिस दीपनगर पहुंचे तो वह बंद मिला. आसपास पूछताछ करने पर पता चला कि अभिषेक ने ऑफिस बेच दिया. जिसके बाद अभिषेक की तलाश की गई तो उसका कोई पता नहीं चला.

पीडि़त पहुंचे अभिषेक के घर

धोखाधड़ी के बाद जब पीडि़त आरोपी के घर पहुंचे तो परिजनों ने पैसे देने से हाथ खड़े कर दिए. उनका कहना था कि उनके पास एक भी पैसा नहीं है और वे पैसे नहीं लौटा सकते. पीडि़तों ने अभिषेक का मोबाइल नंबर पर संपर्क करने की कोशिश की तो मोबाइल स्विच ऑफ मिला.

6 अगस्त को गायब हुआ

पुलिस के मुताबिक अभिषेक 6 अगस्त की सुबह घर से गायब हो गया था. परिजनों ने उसकी गुमशुदगी पटेलनगर थाना में दर्ज कराई. शनिवार देर रात जब धोखाधड़ी के आरोप में अभिषेक के खिलाफ मामला दर्ज हुआ. तब गायब होने की असली वजह पता चली.

कमेटी के नाम पर लाखों की धोखाधड़ी की गई है. मुख्य आरोपी अभिषेक है. मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तारी को लेकर टीम गठित की गई है. 6 अगस्त को वह घर से गायब हो गया था. उसकी गुमशुदगी परिजनों ने पटेलनगर थाना में लिखाई थी.

राजेश साह,

प्रभारी थाना नेहरू कॉलोनी