कानपुर। देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म 25 दिसंबर 1924 में ग्वालियर में हुआ था। एक शिक्षक परिवार में पैदा हुए अटल बिहारी जनता के बीच प्रसिद्ध अपनी राजनीतिक प्रतिबद्धता के लिए जाने जाते हैं। अटल जी को लेकर माना जाता है कि उन्होंने बहुपक्षीय और द्विपक्षीय मंचों पर भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए अपने इस कौशल का एक शानदार परिचय दिया।

अटल ने पत्रकार के रूप में शुरू किया था करियर
भारत सरकार की एक अधिकारिक वेबसाइट आरचीवपीएमआे डाॅट एनआर्इसी डाॅट इन के मुताबिक राजनीतिक विज्ञान और कानून के छात्र रहे अटल बिहारी जी ने एक पत्रकार के रूप में अपने करियर की शुरुआत की थी। वहीं भारतीय राजनीति में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने भारत छोड़ो आंदोलन के साथ ही 1942 में कदम रखा था। इसके बाद वह इस दिशा में तेजी से बढ़े।

सांसद के रूप में चार दशक तक वर्चस्व कायम रखा
1951 में भारतीय जन संघ में शामिल होने के बाद उन्होंने पत्रकारिता छोड़ दी।आज की भारतीय जनता पार्टी को पहले भारती जन संघ के नाम से जाना जाता था जो राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन का अभिन्न अंग है। एक अनुभवी सांसद के रूप में चार दशक तक अपना वर्चस्व कायम रखा। वह लोकसभा में नौ बार और राज्य सभा में दो बार चुने गए जो अपने आप में ही एक कीर्तिमान है।

अटल बिहारी तीन बार देश के प्रधानमंत्री बन चुके

अटल बिहारी वाजपेयी तीन बार देश के प्रधानमंत्री बन चुके हैं। पहली बार अटल बिहारी 1996 में आैर दूसरी बार 1998 में प्रधानमंत्री बने। इसके बाद वह तीसरी बार 1999 को वह पीएम बने आैर  2004 तक अपना कार्यकाल पूरा किया। अटल ने भारत के विदेश मंत्री का पद भी संभाला।  आजादी के बाद भारत की घरेलू और विदेश नीति को आकार देने में एक सक्रिय भूमिका निभाई।

अगले हजार वर्षों में आने वाली चुनौतियों का सामना
अटल बिहारी वाजपेयी ने हमेशा भारत को सभी राष्ट्रों के बीच एक दूरदर्शी, विकसित, मजबूत और समृद्ध राष्ट्र के रूप में आगे बढ़ते हुए देखने की इच्छा जतार्इ। वह अपने राजनैतिक जीवन में कहते रहे हैं कि वह एक ऐसे भारत का प्रतिनिधित्व करते हैं जिस देश की सभ्यता का इतिहास 5000 साल पुराना है आैर अगले हजार वर्षों में आने वाली चुनौतियों का सामना करने के लिए तैयार है।

पूर्व पीएम अटल जी को खाना पकाने का शाैक रहा
अटल बिहारी ने समाज की मूलभूत जरूरतों के लिए अनेक काम किए। इसके अलावा महिलाओं के सशक्तिकरण और सामाजिक समानता में भी आगे रहे। अटल जी ने एक बेहतरीन समीक्षक, कवि आैर संगीतकार के रूप में भी अपनी पहचान बनार्इ। इसके अलावा उन्हें स्वादिष्ट खाना पकाने का भी शाैक रहा। खास है कि उन्होंने अपनी रुचियों को  प्राथमिकता देते हुए उन्हें जिंदा रखा।

इन पुरस्कारों सें सम्मानित हो चुके पूर्व पीएम अटल
अटल जी दूसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म विभूषण से सम्मानित हो चुके हैं। वहीं उन्हें 1994 में भारत का सर्वश्रेष्ठ सासंद पुरस्कार आैर भारत रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है। अपने नाम के ही समान अटलजी एक प्रतिष्ठित राष्ट्रीय नेता, प्रखर राजनीतिज्ञ, नि:स्वार्थ सामाजिक कार्यकर्ता, सशक्त वक्ता, कवि, साहित्यकार, पत्रकार और बहुआयामी व्यक्तित्व वाले व्यक्ति हैं।

पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी की हालत नाजुक, एम्स में लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखे गए

जिस काशी विद्यापीठ का खेल मैदान तत्‍कालीन पीएम अटल बिहारी बाजपेयी के लिए नहीं खुला, वहां लोकल बीजेपी कार्यक्रम के लिए खोदे गए गड्ढे

National News inextlive from India News Desk