कोलकाता (पीटीआई)। वर्तमान में केंद्र सरकार और पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार के बीच विवाद कल रविवार को और बढ़ गया। कल सारदा और रोजवैली चिटफंड घोटाले के सिलसिले में पूछताछ के लिए सीबीआई की एक टीम कोलकाता के पुलिस कमिश्‍नर राजीव कुमार के घर पहुंच गई। इसके बाद यहां पर पश्चिम ममता बनर्जी का एक अलग ही रूप देखने को मिला। सीएम ममता ने इसे संवैधानिक मानदंडों पर हमला करार देते हुए रविवार रात 8.30 बजे धरना शुरू कर दिया।

राजनीतिक प्रतिशोध की वजह से करवाई जा रही
ममता बनर्जी का कहना है कि सीबीआई ने कमिश्‍नर राजीव कुमार के दरवाजों पर बिना तलाशी वारंट के दस्तक दी। यह कार्रवाई राजनीतिक प्रतिशोध की वजह से की जा रही है। इसके साथ ही ममता बनर्जी का यह भी कहना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह उन राज्यों में राष्ट्रपति शासन लागू कराना चाहते हैं, जिन राज्यों में विपक्ष सत्ता में है। मेट्रो सिनेमा के सामने सीएम ममता बनर्जी के पश्चिम बंगाल सरकार के तमाम नेता आज भी धरने पर बैठे हैं।

कई बड़े कार्यक्रमों को स्थगित कर दिया
ममता बनर्जी ने धरने की वजह से कई बड़े कार्यक्रमों को स्थगित कर दिया हैं। आज वित्त मंत्री अमित मित्रा द्वारा राज्य का बजट पेश नहीं किया जाएगा। इसके अलावा ममता बनर्जी यहां एक इनडोर स्टेडियम में पार्टी की किसान शाखा की बैठक में भी नहीं भाग लेंगी। उनकी जगह पर पार्टी के अन्य नेता इस बैठक को संबोधित करेंगे। खास बात तो यह है कि कल सीएम ममता बनर्जी द्वारा शुरू किए धरने में कई राज्यों से विरोधी पार्टियां भी सपोर्ट कर एकजुटता का अहसास करा रही हैं।

इन नेताओं ने की ममता बनर्जी से बात
ममता बनर्जी को विपक्षी दलों से मिल रहे समर्थन में धरना स्थल पर समाजवादी पार्टी के नेता किरणमय नंदा धरना पहुंचे। इसके साथ ही अन्य राष्ट्रीय नेताओं जैसे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एम चंद्रबाबू नायडू, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने रविवार रात सीएम ममता बनर्जी से फोन पर बात की। इस दाैरान इन नेताओं सीएम ममता बनर्जी से कहा कि यह बेहद गलत कदम हैं और वह उनके साथ हैं।

बंगाल में ममता सरकार ने हेलिकॉप्टर नहीं उतरने दिया तो सीएम योगी ने फोन से संबोधित कर दी रैली

National News inextlive from India News Desk