prayagraj@inext.co.in
PRAYAGRAJ: कुंभ के पहले स्नान पर्व में जा रहे हैं तो बच्चों, महिलाओं और बुजुर्गो पर विशेष ध्यान देना होगा. भीड़ में वह खो न जाएं, इसके लिए खुद से होशियारी बरतनी होगी. मेला प्रशासन ने श्रद्धालुओं के लिए एडवाइजरी भी की जारी की है. अधिकारियों का कहना है कि इस बार मेले में भूले-भटकों के लिए हाइटेक व्यवस्था की गई है. महिलाओं और बच्चों के लिए विभिन्न जिलों की टीमों का भी सहयोग लिया जाएगा.

स्क्रीन बोर्ड पर होगा डिस्प्ले
इस बार कुंभ मेला हर तरह से खास होगा. भूले-भटके शिविर में भी हाईटेक व्यवस्था रहेगी. परिवार से बिछड़कर यहां लाए गए बच्चों और महिलाओं का रजिस्ट्रेशन होगा. मेला क्षेत्र में लगे इलेक्ट्रानिक स्क्रीन बोर्ड पर उनकी फोटो दिखाई जाएगी, ताकि परिवार के लोगों को बच्चों, महिलाओं तक पहुंचने के लिए भटकना न पड़े. भूले-भटकों को मिलाने के लिए बाल संरक्षण के लिए काम करने वाली प्रयागराज, फतेहपुर, कौशांबी और प्रतापगढ़ की संस्थाओं का भी सहयोग लिया जाएगा.

तैयार होगा मिसिंग लोगों का डाटा
मेला क्षेत्र में महिलाओं और बच्चों के लिए अलग-अलग शिविर बनाए जाएंगे. रजिस्ट्रेशन के लिए तकनीकी टीम होगी, जो बच्चों, महिलाओं का नाम, पता आदि पूछकर डाटा तैयार करेगी. इसके बाद फोटो के साथ डाटा भी डिस्प्ले किया जाएगा. जो बच्चे व महिलाएं नाम, पता आदि बता सकेंगे, स्क्त्रीन बोर्ड पर उनकी फोटो डिस्प्ले होगी. जल्द ही नोडल अधिकारी नियुक्त किए जाएंगे, जिनके नेतृत्व में स्वयंसेवक काम करेंगे.

आयोग करेगा निगरानी
पिछले कुंभ में यहां करीब 95 हजार बच्चे, महिलाएं परिवार से बिछड़ गए थे. इस बार बाल संरक्षण आयोग इसकी निगरानी करेगा. मेला क्षेत्र के सभी थानों में पुलिस की विशेष इकाई तैनात होगी. उस मेले में भटकों को मिलाने में जो दिक्कते पेश आई थी उनको दूर किया जा रहा है. अधिकारियों की टीम पिछले मेले की कमियों पर रिसर्च भी कर रही है. भटके हुए को हर हाल में मिलाने की कोशिश की जाएगी.

मेले में जा रहे हैं तो रखिए ध्यान

-बच्चों को अपने से दूर नहीं जाने दें. उनको साथ लेकर चलते रहें.

-बहुत छोटे बच्चों को मेले में ले जाने से बचना जरूरी है.

-बच्चों के कपड़े की जेब में उसका नाम, परिवार का नाम पता और मोबाइल नंबर लिखकर पर्ची रख दें.

-यह पर्ची अलग-अलग जेब में डाल दें. ताकि बच्चा जिसे मिले वह तत्काल खबर कर दे.

-बुजुर्गो और महिलाओं को मोबाइल फोन देकर उसमें घरवालों का नंबर फीड कर दें.

-परिजन के मिसिंग हो जाने पर तत्काल पास मौजूद पुलिस कर्मियों या स्वयं सेवकों को इसकी जानकारी दें.

-मेले में एंट्री करते समय में परिवार के सभी लोगों को किसी स्थान पर एक चिन्ह दिखा दें.

-बता दें कि अलग हो जाने के बाद यहीं पर दूसरों का इंतजार करें.

-अगर भटक गए हैं तो वहां से अपनी सेल्फी खींचकर अपने साथियों को भेज दें.