- एसएसपी के सामने आया मामला तो उजागर हुई पुलिस की मनमानी

- पटना से सटे मनेर थाना एरिया के ब्रह्मपुर शेरपुर की घटना

- मासूम सहित 13 लोगों को एसएसपी के कराया गया मुक्त

patna@inext.co.in

PATNA: एसएसपी गरिमा मलिक की तत्परता से ईट भट्ठे पर बंधक बनाए गए 13 लोगों को सकुशल बरामद कर लिया गया है. मनेर थाना एरिया के ब्रहमपुर शेरपुर की इस घटना में पुलिस की बड़ी मनमानी सामने आई है. एसएसपी ने सख्ती दिखाई तो पुलिस हरकत में नहीं तो पूरा मामला दबाया जा रहा था. पुलिस का कहना है कि मामले की जांच पड़ताल के साथ आरोपियों की गिरफ्तारी का प्रयास किया जा रहा है.

नालंदा के हैं पीडि़त

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक पीडि़त परिवार जिसे ईट भट्ठे पर बंधक बनाया गया था. वह नालंदा बिहार शरीफ का रहने वाला है. ईट भट्ठे पर उनसे लगातार काम कराया जाता था और पैसा भी नहीं दिया जाता था. जब मजदूर मजदूरी का दबाव बनाने लगे तो उनके साथ मारपीटकर बंधक बना दिया गया. इसमें एक महिला भी शामिल रही जिसके गोद में 25 दिन का बच्चा है. ईट भट्ठा पर उसके साथ छेड़खानी भी की गई. महिला और बच्चों सहित सभी 13 को बंधक बना लिया गया.पीडि़त महिला और उसकी बहन के 5 बच्चों को एक कमरे में बंद किया गया था.

एसएसपी न होती तो चली जाती जान

पीडि़त महिला का पति अपने परिवार को छुड़ाने के लिए लगा हुआ था, लेकिन पुलिस ध्यान नहीं दे रही थी. वह 20 दिनों से थाना

पर दौड़ रहा था लेकिन कोई ध्यान नहीं दिया गया. वह बार बार परिवार को बचाने की दुहाई दे रहा था लेकिन पुलिस कोई ध्यान नहीं दे रही थी. आरोप है कि उसके साथ गाली गलौच कर भगा दिया गया. शुक्रवार की रात पटना की एसएसपी गरिमा मलिक को इसकी जानकारी हुई जिसके बाद पुलिस हरकत में आई फिर बंधक बनाए गए लोगों को छुड़ाया गया. एसएसपी ने इसके लिए दानापुर एसडीपीओ को लगाया था. 10 बच्चों सहित 13 लोगों को बरामद कर लिया जबकि ईंट भट्टा मालिक विष्णु दयाल व उसके गुर्गे फरार हो गए.