क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ : सिटी के हिंदपीढ़ी समेत कई इलाकों में डेंगू-चिकनगुनिया के प्रकोप से सरकारी महकमे में जितनी हलचल है, उससे कहीं ज्यादा इन इलाकों में रहने वाले लोग इन बीमारियों को लेकर दहशत में हैं. हैरान करने वाली बात यह है कि स्वास्थ्य विभाग की तमाम कोशिशों के बाद भी हर दिन चिकनगुनिया के नए मरीज सामने आ रहे हैं. इतना ही नहीं, डोर-टू-डोर जो सैंपल कलेक्ट किए गए हैं, उसमें 80 परसेंट सैंपल में मच्छरों का लार्वा पाए जाने की पुष्टि हुई है.

महामारी न बन जाए चिकनगुनिया

अगर तत्काल जल्द ही लार्वा को खत्म करने के लिए हेल्थ डिपार्टमेंट और रांची नगर निगम पहल नहीं करती है तो यह महामारी का रूप ले सकती है. गौरतलब है कि हेल्थ डिपार्टमेंट ने मंगलवार को कांटाटोली और लालपुर समेत कई इलाकों से पानी का सैंपल कलेक्ट किया था.

लार्वा पाए जाने पर लगाया जाना है जुर्माना

हेल्थ डिपार्टमेंट की प्रिंसिपल सेक्रेटरी निधि खरे ने दो दिन पहले ही एक आदेश जारी किया था. इसमें कहा गया था कि अगर घर में कहीं और पानी में मच्छर का लार्वा मिलता है तो मालिक और संचालक पर फाइन लगाया जाएगा. इसके साथ ही लार्वा मिलने पर उसे तत्काल नष्ट करने का आदेश दिया गया है.