-मेन आरोपी कथित पत्रकार, एक भाई ने बाल पकड़े, दूसरे ने गला काटा

bareilly@inext.co.in

BAREILLY: सिविल लाइंस में महिला एडवोकेट सीमा शर्मा की हत्या दो सगे भाइयों ने की थी. महिला एडवोकेट उन्हें भतीजे की तरह मानती थी. मेन आरोपी कथित पत्रकार ने महिला एडवोकेट से ब्याज पर रुपए लगाने के लिए 70 लाख रुपए लिए थे, लेकिन जब महिला ने सारे रुपए वापस मांगे तो उसने भाई के साथ उसकी हत्या कर दी. क्राइम ब्रांच ने मामले का खुलासा करते हुए दोनों भाइयों को गिरफ्तार कर लिया है.

17 अगस्त की रात में की थी हत्या

एसपी क्राइम ने बताया कि हत्या के बाद जांच में मौके से कुछ डायरियां मिली थीं. इसमें रुपए के लेन-देन की बात थी. इसी में वेदप्रकाश और सत्यवीर उर्फ सत्यम के नाम सामने आए थे. वेदप्रकाश एक लोकल अखबार चलाता है और उसके भाई की कम्प्यूटर शॉप है. जांच हुई तो पता चला कि दोनों 18 अगस्त की सुबह साढ़े 5 बजे से ही गायब हैं. पुलिस ने कॉल डिटेल निकाली तो वेदप्रकाश का नाम आया. उसकी लास्ट लोकेशन भी रात में सीमा के घर के आसपास की मिली. इसी दौरान वेद प्रकाश के भाई का भी नाम आया. उसकी भी लोकेशन सीमा के घर के आसपास मिली. पुलिस ने सर्विलांस की मदद से दोनों को बुधवार रात में गिरफ्तार कर लिया.

70 लाख रुपए ब्याज पर लगाए

पूछताछ में वेद प्रकाश ने बताया कि उसकी डेढ़ वर्ष पहले कचहरी में सीमा से मुलाकात हुई थी. सीमा उसपर भरोसा करने लगी. उसने सीमा को ब्याज पर रुपए लगाने के लिए कहा. इसी दौरान सीमा ने रामपुर में 62 लाख की प्रॉपर्टी बेची थी. इसमें से सीमा ने एक साथ 36 लाख रुपए वेदप्रकाश को दिए थे. इसका 5 परसेंट ब्याज 1,80,000 रुपए मिलता था. अन्य रकम भी लगाई थी, जिसका रोजाना सीमा को 21 हजार रुपए ब्याज के देते थे. सीमा ने कुल 70 लाख रुपए वेदप्रकाश को इन्वेस्टमेंट के लिए दे दिए थे.

दो जगह खरीदी प्रॉपर्टी

वेदप्रकाश ने बताया कि उसने सीमा के रुपयों से बारादरी के जगतपुर में एक 100 गज का मकान खरीद लिया था. इसमें छोटा भाई सत्यवीर रहता था और इसी में ऑफिस खोला था. उसने 300 गज का प्लॉट शंखा पुल के पास नेशनल हाइवे 24 पर भी खरीदा था. जिसकी वजह से वह सीमा को ब्याज के रुपए नहीं दे पा रहा था. करीब 15 दिन पहले सीमा ने वेदप्रकाश से कहा कि वह उसके सारे रुपए वापस कर दे, नहीं तो वह पुलिस में शिकायत कर देगी. इससे वेदप्रकाश टेंशन में आ गया. समस्या भाई को बताई और उसकी मदद से वारदात को अंजाम दे डाला.

ऐसे दिया अंजाम

-वेदप्रकाश 8 महीने पहले नानकमता गया था. यहां से उसने 120 रुपए में एक चाकू खरीदा था, जिसे वह अपनी कार में रखता था.

-प्लान के तहत पहले वेद प्रकाश सीमा के घर पहुंचा और उसने रात में खाना खाने की भी बात कही.

-उसने फोन कर अपने भाई को भी बुला लिया. यहां सीमा दोनों के लिए चाय बनाकर देने पहुंची.

-जैसे ही सीमा चाय रखने नीचे झुकी तो सत्यवीर ने उसके बाल पकड़ लिए और वेद प्रकाश ने चाकू से गला काट दिया.

-इसके बाद दोनों अपनी-अपनी बाइक से फरार हो गए.

वेद प्रकाश है पुराना क्रिमिनल

वेद प्रकाश ने जून 2016 में वेद प्रकाश ने 10वीं के छात्र सुधांशु तिवारी के अपहरण के मामले में परिजनों से दो लाख रुपए की फिरौती मांगी थी. उसने पंपलेट से नंबर लेकर फोन कर कहा था कि छात्र उसके पास है. वह बिथरी चैनपुर में लूट के मामले में भी जेल गया था.